नीली चिड़िया के पंख कतरने की तैयारी में मोदी सरकार, ट्विटर को आखिरी नोटिस, न सुधरा तो सीधा बैन होगा

माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट Twitter अपनी टुच्ची हरकतों से बाज नहीं रहा है, अब मोदी सरकार इस नीली चिड़िया के पंख कतरने की तैयारी कर रही है, जी हाँ! केंद्र सरकार ने ट्विटर को आखिरी नोटिस दियाहै, इसके बाद ट्विटर के खिलाफ आईटी एक्ट और पीनल कानून के तहत बड़ी कार्रवाई होगी। ट्विटर को हमेशा के लिए भारत में बैन भी किया जा सकता है..सरकार ने कहा है कि नए दिशानिर्देश 26 मई से प्रभावी हो गए हैं।

अनुपालन के लिए सोशल मीडिया मध्यस्थों को दी गई 3 महीने की अवधि समाप्त होने के बाद, ट्विटर को भारत स्थित मुख्य अनुपालन अधिकारी, नोडल संपर्क व्यक्ति और शिकायत अधिकारी नियुक्त करना बाकी है, अब आखिरी नोटिस भेजा गया है, Twitter ने नए नियम को न माना तो कार्यवाही होगी।


बता दें कि Twitter ने शुक्रवार को भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक हटा दिया, इसके बाद ट्विटर ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत समेत संघ के 4 बड़े नेताओं के अकाउंट से भी ब्लू टिक हटा दिया। ट्विटर की इस हरकत के बाद सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार से मांग की जा रही है कि अब Twitter पर कड़ी कार्यवाही करने का समय आ गया है, अभी नहीं तो कभी नहीं?

मालूम हो कि इससे पहले हाल ही में Twitter ने ‘भारतीय जनता पार्टी’ के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा, छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह समेत दर्जनों भाजपा नेताओं के ट्वीट के नीचे manipulated media का टैग चिपका दिया, ये सभी ट्वीट कथित कांग्रेसी टूलकिट से सम्बंधित थे, हालाँकि ट्विटर ने किस आधार पर manipulated media चिपकाया इसकी जानकारी अभी तक नहीं दी.

आपको बता दें कि Twitter ने दो दिन पहले नाइजीरिया के राष्ट्रपति का ट्वीट हटा दिया, इसके बाद फौरन बदला लेते हुए नाइजीरिया ने Twitter को देशभर में अनिश्चितकाल के लिए सस्पेंड कर दिया। नाइजीरियन सरकार ने दो टूक कहा, हमारे देश में काम करना है तो हमारे नियम कानून मानने होंगे। अन्यथा देश से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा।