गुपकार गैंग में भयंकर फूट, मोदी के साथ मीटिंग के बाद फारूक अब्दुल्ला पर भड़की महबूबा मुफ़्ती

गुरुवार ( 24 जून, 2021 ) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई दिल्ली में अपने आवास पर जम्मू कश्मीर के नेताओं के साथ एक बैठक की, यह बैठक तकरीबन साढ़े तीन घंटे तक चली, इस बैठक में जम्मू कश्मीर के चार पूर्व मुख्यमंत्री ( फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ़्ती और गुलाम नबी आजाद ) शामिल हुए थे..इस बैठक का मुख्य मकसद जम्मू कश्मीर में ‘विकास की रफ़्तार और लोकतांत्रिक प्रक्रिया को तेज करना’ पर चर्चा करना था, सभी नेताओं ने बारी-बारी से अपनी बात प्रधानमंत्री के सामने रखी. लगभग सभी कश्मीरी नेता गुपकार गैंग के बैनर तले दिल्ली आये थे. mehbooba mufti farooq abdullah

अब गुपकार गैंग में बड़ी फूट की खबर सामने आ रही है, खबर है कि पीडीपी मुखिया महबूबा मुफ़्ती फारूक अब्दुल्ला पर भड़क गई हैं, बैठक के दौरान धारा 370 को बहाल करने पर महबूबा मुफ्ती का समर्थन नहीं करने के लिए पीडीपी, फारूक अब्दुल्ला से नाखुश है। पीडीपी को लगता है कि जब महबूबा मुफ्ती ने बैठक में अनुच्छेद 370 का जिक्र किया तो नेशनल कॉन्फ्रेंस ने उनका समर्थन नहीं किया। mehbooba mufti farooq abdullah

प्रधानमंत्री के साथ सर्वदलीय बैठक समाप्त होने के बाद जम्मू काश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने कहा, मैंने बैठक में कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोग धारा 370 को रद्द होने से नाराज़ है। हम जम्मू-कश्मीर में धारा 370 को फिर से बहाल करेंगे। इसके लिए हम शांति का रास्ता अपनाएंगे। इस पर कोई समझौता नहीं होगा। महबूबा ने आगे कहा, मैंने बैठक में प्रधानमंत्री से कहा कि अगर आपको धारा 370 को हटाना था तो आपको जम्मू-कश्मीर की विधानसभा को बुलाकर इसे हटाना चाहिए था। इसे गैरकानूनी तरीके से हटाने का कोई हक नहीं था। हम धारा 370 को संवैधानिक और क़ानूनी तरीके से बहाल करना चाहते हैं. mehbooba mufti farooq abdullah

पाकिस्तान का राग अलापते हुए महबूबा मुफ़्ती ने कहा, जम्मू-कश्मीर के लोगों की शांति के लिए पाकिस्तान से बात की जाए। यहां कोई सांस नहीं ले पाता है, सबको जेल में डाल दिया जाता है। ये सब बंद होना चाहिए। महबूबा मुफ़्ती के पाकिस्तान से बातचीत वाले बयान से भी सभी कश्मीरी पार्टियों ने किनारा कर लिया।