मायावती ने खोला पंजाब की कांग्रेस सरकार के खिलाफ मोर्चा, केंद्र से लगाई कार्यवाही करने की गुहार

बहुजन समाज पार्टी ( बसपा ) की मुखिया और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने पंजाब की कांग्रेस सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है, मायावती ने केंद्र से कार्यवाही करने की मांग भी की है, मायावती ने ट्वीट कर कहा, पंजाब की कांग्रेस सरकार 400 रुपए में वैक्सीन खरीदकर 1000 से ज्यादा रूपये में बेंचकर मोटा मुनाफ़ा कमा रही है, ये कृत्य अशोभनीय व् अमानवीय है, बसपा की मांग है कि केंद्र सरकार इस मामलें को संज्ञान में लेकर कार्यवाही करे. कांग्रेस सरकार जो कर रही है, वो मानवीयता के खिलाफ है.

बसपा सुप्रीमों मायावती ने अपने ट्वीट में लिखा, पंजाब की कांग्रेस सरकार द्वारा कोरोना वैक्सीन को केन्द्र से 400 रुपए में खरीद कर उसे सरकारी अस्पतालों के ज़रिए जनता को उसका लाभ देने के बजाय उसे प्राइवेट अस्पतालों को 1,060 रुपए में बेचकर आपदा में भी मुनाफा कमाने का कृत्य अशोभनीय, अमानवीय, निन्दनीय व अति-दुर्भाग्यपूर्ण।


दूसरे ट्वीट में मायावती ने लिखा, पंजाब सरकार की इस गलत हरकत का मीडिया द्वारा पर्दाफाश करने के बाद स्पष्ट है कि कोरोना वैक्सीन के सम्बंध में कांग्रेस नेतृत्व का अभी तक का जो भी स्टैण्ड व बयानबाजी आदि रही है उसमें गंभीरता कम व नाटकबाजी ज्यादा लगती है। केन्द्र सरकार इसका उचित संज्ञान ले, बीएसपी की यह माँग।

अकाली दल के मुखिया सुखबीर सिंह बादल ने कल कहा था कि #COVID का टीका उपलब्ध है लेकिन पंजाब सरकार इसे निजी अस्पतालों को बेच रही है। पंजाब सरकार 400 रुपये में टीके ले रही है लेकिन निजी अस्पतालों को 1060 रुपये में बेच रही है। और निजी अस्पताल उच्च कीमतों पर वैक्सीन दे रहे हैं.

 

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब सरकार ने ४०० में वैक्सीन खरीदकर राज्य भर के निजी यानी अस्पतालों को ₹1,060 प्रति खुराक की दर से बेंची। प्राइवेट अस्पतालों में लोग प्रति शॉट के कम से कम ₹1,560 रूपये दे रहे हैं. राज्य सरकार द्वारा इस वैक्सीन को 18-45 वर्ष के लोगों लिए खरीदा गया, लेकिन निजी अस्पताल अब इसे 18 वर्ष से ऊपर के किसी भी व्यक्ति को दे रहे हैं जिसने स्लॉट बुक किया है। इस कदम को राज्य सरकार के मोटा मुनाफ़ा कमाने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है.