फ़्रांस के राष्ट्रपति लिया एक और साहसिक फैसला, हिजाब पहनने पर अपनी पार्टी कैंडिडेट का टिकट काटा

image credit - Reuters

इस्लामिक कट्टरता के खिलाफ फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की मुहिम जारी है, कट्टरता की जड़ पनपकर पौधा बनें उससे पहले मैक्रों उसे काट देना ही उचित समझ रहे हैं, ताजा मामला हिबाब पहनने को लेकर आया है, राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने हिजाब पहनने पर अपनी पार्टी की एक मुस्लिम कैंडिडेट का टिकट काट दिया और कहा कि फ्रास में कट्टरता का कोई स्थान नहीं है. साहसिक फैसला लेकर मैक्रों ने एक बार फिर कट्टरपंथियों को स्पष्ट व् कड़ा सन्देश दे दिया है. ( france macron party hijab )

दरअसल फ्रांस में स्थानीय चुनाव हो रहे हैं, राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की पार्टी ने कुछ महिलाओं को चुनाव में उम्मीदवार बनाया था. लेकिन जैसे ही ये महिलाएं हिजाब पहन कर सड़कों पर प्रचार के लिए उतरीं, पार्टी ने उनसे समर्थन वापस ले लिया. यानि टिकट काट दिया। अब ये कैंडिडेट निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर मैदान में है. ( france macron party hijab )

मैक्रों ने जिसका टिकट काटा है, उनका नाम सारा ज़ेमाही है और वह अब निर्दलीय काउंसिलर का चुनाव लड़ रही है, सिर्फ ज़ेमाही ही नहीं 3 और उम्मीवारों के साथ फ्रांस में ऐसा ही हुआ. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, मैक्रों की पार्टी लारेम ने पहले ही मुस्लिम उम्मीदवारों को स्पष्ट कहा था कि चुनाव प्रचार के दौरान दस्तावेजों पर धार्मिक प्रतीकों को प्रदर्शन करने की छूट नहीं होगी। इसके बावजूद मुस्लिम उम्मीदवारों ने नियम का उल्लंघन किया, जिसके बाद टिकट काट दिया गया. ( france macron party hijab )


बता दें कि नवंबर 2020 में फ्रांस में फ्रेंच नागरिकों पर वीभत्स हमलें हुए, कभी पैगंबर मुहम्मद का कार्टून दिखाने पर शिक्षक का गला काट दिया गया तो कभी चर्च में घुसकर सरेआम लोगों की ह्त्या कर दी गई. दोनों घटनाओं को फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन ने इस्लामिक आतंकवाद करार दिया। उसके बाद राष्ट्रपति मैक्रों ने इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ साहसिक कदम उठाना शुरू कर दिया।

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने कहा था कि वह समझ सकते हैं कि पैगंबर मोहम्मद के कार्टून से मुस्लिम समुदाय को धक्का या हैरानी हुई लेकिन इसका मतलब ये नहीं की किसी का गला काट दिया जाएगा, ये सब फ़्रांस में बिल्कुल नहीं चलेगा, उन्होंने कहा कि हिंसा करने वालों का वो हश्र करेंगे ताकि दोबारा कोई ऐसा करने का दुस्साहस न कर सके.