अब्दुल समद वाले मामले में देश को दुनियाभर में बदनाम करने की पूरी प्लानिंग कर ली थी केजरीवाल गैंग ने

गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग की पिटाई का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है, इस मामलें को दूसरे एंगल से जोड़कर सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार करने वालों के खिलाफ यूपी पुलिस ने कार्यवाही शुरू कर दी है, वहीँ अब एक और बड़ा खुलासा हुआ है, केजरीवाल की टीम ने इस मामलें को लेकर भारत को विश्व भर में बदनाम करने की पूरी प्लानिंग भी कर ली थी। लेकिन ये अपने नापाक मंसूबों में कामयाब हो पाते उससे पहले यूपी पुलिस ने मामलें की सच्चाई सामने लाकर रख दी. ( ghaziabad loni case )

‘आम आदमी पार्टी’ की सोशल मीडिया टीम के कपिल के ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सूचना सलाहकार शलभमणि त्रिपाठी ने लिखा, केजरीवाल जी की टीम अपने एजेंटों से एक झूठी खबर को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर फैलाने की अपील कर रही है,ये कहते हुए कि दुनिया भर में छवि खराब करने के लिए अफवाह फैलाओ कि भारत में कितनी बुरे हालात हैं। ऐसे में गद्दार बोलो तो बुरा मान जाते हैं,ये ग़द्दारी है या नहीं केजरीवाल जी। ( ghaziabad loni case )

आपको बता दें कि ऑल्ट न्यूज़ वाले मोहम्मद जुबेर ने जो अब्दुल समद का म्यूट वीडियो ट्विटर पर शेयर किया था, इसको कोट करते हुए ‘आम आदमी पार्टी’ की सोशल मीडिया टीम के कपिल ने अपने ट्वीट में लिखा था, अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसियों, नेताओं और एक्टविस्ट को टैग करके बताएं कि सत्ताधारी दल के इशारे पर भारत में क्या हो रहा है. ( ghaziabad loni case )


गौरतलब है कि गाजियाबाद के लोनी में मुस्लिम बुजुर्ग की कुछ लोगों ने दाढ़ी काट दी, मारपीट भी की, उसके बाद साजिश के तहत इसे ‘जय श्री राम से’ जोड़ दिया गया हिन्दुओं को बदनाम करने के लिए..जबकि पुलिस ने कहा कि आरोपित और पीड़ित पहले से परिचित थे। अब्दुल समद ने ताबीज देकर इसके सकारात्मक परिणाम का आश्वासन दिया था। ताबीज ने काम नहीं किया तो आरोपितों ने उसे पीट दिया। व्यक्तिगत विवाद की इस घटना में आरोपितों में हिन्दू और मुस्लिम, दोनों समुदायों के लोग थे। इसमें साम्प्रदायिक एंगल नहीं था, लेकिन कुछ लोगों ने इसे बनाना चाहा।

अब्दुल समद का वीडियो झूठे दावे के साथ शेयर करने वाले ऑल्ट न्यूज़ के मोहम्मद जुबेर, पत्रकार राणा अयूब, न्यूज़ पोर्टल ‘द वायर’ कांग्रेस नेता सलमान निजामी, मसकूर उस्मानी, डॉ समा मोहम्मद, सबा नकवी और माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर के खिलाफ यूपी पुलिस ने गैर जमानती धाराओं 153/ 153A/ 295A/ 505 / 120B & 34 IPC के अंतर्गत FIR पंजीकृत की है.