कठुआ काण्ड पर चिल्लाने वाला बॉलीवुड गैंग दिल्ली में मस्जिद के अंदर हुए बलात्कार पर चुप क्यों?

दिल्ली में रेप पर खामोशी

साल 2018 में जम्मू कश्मीर के कठुआ स्थित एक गांव में 8 साल की बच्ची के साथ गैंगरेप व हत्या का मामला सामने आया था। मामला सामनें आने के बाद साजिश के तहत हिन्दुओं और मंदिरों को खूब बदनाम किया गया, बॉलीवुड की हीरोइन सोनम कपूर समेत कई बॉलीवुड के कई नचनिये गले में तख्ती टांगकर पवित्र हिन्दू मंदिर को बदनाम करने के मिशन में जुट गए. अब दिल्ली में एक मस्जिद के अंदर बलात्कार का मामला सामने आया है, इस मामलें पर बॉलीवुड वाले नचनियों समेत सभी लिब्रान्डुओं ने चुप्पी साध ली है. ‘दिल्ली में मस्जिद में रेप’ पर बॉलीवुड वालों की ख़ामोशी कई सवाल खड़े करती हैं.

कठुआ काण्ड पर कुछ लोगों ने मनगढ़ंत कहानी बनाकर हिन्दुओ और मंदिरों को खूब बदनाम किया था, जिसमें बॉलीवुड गैंग ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था, लेकिन ये सब मस्जिद में हुए बलात्कार पर खामोश हैं, मस्जिद में 10 साल की मासूम बच्ची के साथ 48 वर्षीय मौलवी द्वारा दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिए जानें के बाद अब कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है, पूरे सेकुलर जमात और तख्ती गैंग के मुंह में दही जम गयी है, जबकि कठुआ काण्ड में इसी सेकुलर जमात ने खूब हल्ला मचाया था, आखिर दोनों ही तो मासूम बच्ची थी, फिर गिरोह विशेष वाली खामोश क्यों हैं, ये समझ के परे है.

दिल्ली पुलिस ने एक 48 वर्षीय मौलाना को गिरफ्तार किया है, 48 वर्षीय मौलाना मोहम्मद इलियास पर 10 वर्ष की नाबालिग बच्ची के साथ बलात्कार करने का आरोप है, मामला उत्तर-पूर्वी दिल्ली की एक मस्जिद का है, न्यू इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक़, घर लौटने के बाद नाबालिग ने अपने माता-माता को आपबीती बताई, जिसके बाद बच्ची के परिजनों ने रविवार रात पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने कहा कि शिकायत में, लड़की के माता-पिता ने आरोप लगाया कि उनकी बेटी पानी लेने मस्जिद गई थी, जब मौलवी ने उसके साथ बलात्कार किया।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 376 (बलात्कार) और यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण (पॉक्सो) अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। आरोपी को सोमवार सुबह गाजियाबाद के लोनी से गिरफ्तार किया गया.

‘दिल्ली में मस्जिद में रेप’ का आरोपी

बता दें कि पूरा कठुआ काण्ड में साजिश के तहत हिन्दुओं और मंदिरों को बदनाम किया गया, महबूबा मुफ़्ती से लेकर बॉलीवुड के स्टार्स तक देश तोड़ने की इस साजिश का हिस्सा थे..