इजराइल ने फिर की गाजा पर बमबारी, नए प्रधानमंत्री बेनेट तो नेतन्याहू से भी खतरनाक निकले

israel attack on gaza
israel attack on gaza

इजराइल में हाल ही में सत्ता परिवर्तन हो गया और बेंजामिन नेतन्याहू की जगह नफ्ताली बेनेट नए प्रधानमंत्री बन गए, बेनेट के प्रधानमंत्री बनने के बाद इजराइल ने सीजफायर तोड़ दिया और गाजा पर एक बार फिर हमला ( israel attack on gaza ) कर दिया, इससे दो चीजें बहुत स्पष्ट हो जाती हैं, पहली तो यह कि इजराइल का प्रधानमंत्री चाहे हो हो, उसके लिए राष्ट्रपति सर्वोपरि, दूसरा यह कि पहले इस्लामी लोग नेतन्याहू पर अत्यधिक कट्टरपंथी होने का आरोप लगाते थे, लेकिन नफ्ताली बेनेट तो नेतन्याहू से भी ज्यादा खतरनाक लग रहे हैं. जैसा की पहले ही कहा जा रहा था कि बेनेट भी दक्षिणपंथी विचारधारा वाले हैं.

गौरतलब है कि इजराइल और फिलिस्तीनी आतंकी संगठन हमास के बीच 11 दिनों तक जमकर खूनी संघर्ष हुआ था, हमास के कब्जे वाले गाजा को लगभग इजराइल ने बर्बाद कर दिया था, इसके बाद हमास गिड़गिड़ाने लगा और कई देशों के हस्तक्षेप के बाद सीजफायर पर समझौता हुआ, अब इजराइल में सत्ता परिवर्तन होते ही इजराइल ने सीजफायर तोड़ फिर से गाजा पर हमला ( israel attack on gaza ) कर दिया।

इजरायली सेना ने कहा कि उसके विमानों ने गाजा शहर और दक्षिणी शहर खान यूनिस में हमास के सशस्त्र परिसरों पर हमला ( israel attack on gaza ) किया। “गाजा से जारी आतंकवादी कृत्यों के सामने हम बिल्कुल भी नहीं झुकेंगे, मुंहतोड़ जवाब देते रहेंगे। इजरायली सेना की तरफ से ये कार्रवाई इसलिए की गई है, क्योंकि गाजा की ओर से आग लगाने वाले गुब्बारों को लॉन्च किया गया था.

इजरायली फायर सर्विस ने बताया कि मंगलवार को कुछ गुब्बारों को गाजा से इजरायल की ओर भेजा गया. इस वजह से कई जगह आग लग गई. जिसके बाद इजराइल ने भी जवाबी कार्यवाही की. हालाँकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया कि इजराइल द्वारा गाजा पर की गई एयरस्ट्राइक में कितने लोग मारे गए, पिछली बार जब घमासान हुआ था तब गाजा में हमास के सैकड़ों आतंकी समेत लगभग ढाई सौ लोग मारे गए थे.