भगोड़े मेहुल चौकसी को भारत लाने की कानूनी जंग लड़ने के लिए भारत की तरफ से हरीश साल्वे उतरेंगे

भगोड़ा मेहुल चौकसी डोमिनिका में गिरफ्तार हुआ है. मेहुल चोकसी 2018 में कैरेबियाई देश एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता ले चुका है, मेहुल चोकसी को डोमिनिका की स्थानीय पुलिस ने बुधवार रात उस वक्त पकड़ लिया जब वह नाव में सवार होकर क्यूबा भागने की कोशिश कर रहा था. चौकसी गैरकानूनी तरीके से डोमिनिका में घुसा था. ( Harish Salve Mehul Choksi ) मेहुल चौकसी को भारत अब जल्द से जल्द प्रत्यर्पित कर उसके गुनाहों का हिसाब करना चाहता है, लेकिन प्रत्यर्पण में कुछ क़ानूनी अड़चनें आ रही है, जिसकी वजह से मेहुल चौकसी का भारत प्रत्यर्पण नहीं हो पा रहा है, कहा जा रहा है कि मेहुल चौकसी को भारत लाने की कानूनी जंग लड़ने के लिए भारत की तरफ से अब हरीश साल्वे अदालती अखाड़े में उतरेंगे। ( Harish Salve Mehul Choksi )

मिली जानकारी के मुताबिक़, मेहुल चौकसी को डोमिनिका से भारत वापस लाने पर केंद्र सरकार वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे से सलाह ले रही है। अगर डोमिनिका की कोर्ट में भारत को पक्ष रखने का मौका दिया जाता है तो साल्वे पेश हो सकते हैं, इन दिनों लंदन में प्रैक्टिस कर रहे साल्वे भारत के लिए विदेश में कई मुकदमों में पेश हो चुके हैं. इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस ( ICJ ) में हरीश साल्वे ने भारत सरकार से मात्र एक रूपये लेकर कुलभूषण जाधव का केस लड़ा था, पाकिस्तान सरकार से 20 करोड़ रूपये फीस लेकर केस लड़ने वाले खावर कुरैशी को साल्वे ने अपनी दलीलों से चारों खाने चित कर दिया था. ( Harish Salve Mehul Choksi )

भारत के पूर्व सॉलिसिटर जनरल व् वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने सोमवार को एक बयान में कहा, ‘मैं भारत सरकार को सलाह दे रहा हूं कि मेहुल चौकसी मामले में क्या कदम उठाए जाएं। साल्वे ने स्पष्ट किया, “भारत सरकार डोमिनिकन अदालत में पेश होने वाली पार्टी नहीं है। हम केवल डोमिनिकन अधिकारियों की मदद कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा, अगर डोमिनिका की कोर्ट में भारत को पक्ष रखने का मौका दिया जाता है तो मैं भारत के लिए उपस्थित होऊंगा।

डोमिनिका में मेहुल चौकसी की गिरफ़्तारी होने के बाद भारतीय एजेंसियों भी उसका भारत प्रत्यर्पण करानें की तैयारियां तेज कर दी हैं, 62 वर्षीय मेहुल चौकसी पर पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) से लगभग 13,600 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप है।