बंगाल: हिंसा की जांच करने पहुंची NHRC की टीम पर गुंडों ने किया जानलेवा हमला, TMC पर लगा आरोप

विधानसभा चुनाव परिणाम आने के बाद हुई हिंसा की जांच करने पहुंची राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) की टीम पर पश्चिम बंगाल के जादवपुर में गुंडों ने जानलेवा हमला किया। कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश के बाद NHRC की टीम बंगाल पहुंची है जांच के लिए. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य और राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष आतिफ रशीद के नेतृत्व में टीम मंगलवार (29 जून) दोपहर जादवपुर गई थी, जहां उन्होंने सैकड़ों भाजपा समर्थकों के घर देखे थे, जिन्हें लूट लिया गया था और तोड़फोड़ की गई थी। (Attack NHRC Team Bengal)

आतिफ रशीद ने भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों के क्षतिग्रस्त घरों की तस्वीरें पोस्ट की, जिनमें अधिकांश दलित थे। ये सभी कार्यकर्ता और समर्थक जो अपने घरों पर हमले के बाद भाग गए थे, अभी वापस नहीं आए हैं। जैसे ही एनएचआरसी सदस्य ने छोड़े गए घरों का निरीक्षण करना शुरू किया और तस्वीरें लीं, वैसे हीएक भीड़ की झुण्ड आ गई और जानलेवा हमला करने लगी, आरोप है कि सत्तारूढ़ टीएमसी के गुंडों ने हमला किया। रशीद को सीआईएसएफ के जवान बचाने में कामयाब रहे. (Attack NHRC Team Bengal)


वहाँ कुछ समय बिताने के बाद, रशीद ने महसूस किया कि स्थिति और खराब हो सकती है और वह अपने वाहन की ओर चलने लगे, तृणमूल समर्थकों ने रशीद को पकड़ने के लिए सीआईएसएफ जवानों के साथ धक्का-मुक्की भी की। रशीद ने कहा, जब मेरे ऊपर हमला हो रहा है तो आम आदमी का क्या हाल होगा इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती।
(Attack NHRC Team Bengal)

उल्लेखनीय है कि विधानसभा चुनाव का परिणाम आने के बाद पश्चिम बंगाल में बड़े पैमानें पर हिंसा हुई थी, दर्जनों भाजपा समर्थकों के घर और दफ्तर जला दिए गए थे, भाजपा ने आरोप लगाया था कि उसके दर्जनों कार्यकर्ताओं की ह्त्या भी की गई, यही नहीं हिंसा के दौरान महिलाओं के साथ बलात्कार और लूटपाट की भी ख़बरें सामने आई. जान बचाने के लिए सैकड़ों लोग घर छोड़कर पलायन कर गए.