लोनी मामलें में सपा नेता उम्मेद उर्फ़ इदरीश पर FIR दर्ज, मारपीट को साम्प्रदायिक रंग देने का आरोप

गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग की पिटाई मामलें को दूसरे एंगल से जोड़कर सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार करने वालों के खिलाफ यूपी पुलिस की कार्यवाही जारी है, इसी कड़ी में पुलिस ने समाजवादी पार्टी के स्थानीय नेता उम्मीद पहलवान उर्फ़ इदरीश के खिलाफ एफआईआर ( fir against umaid idrish ) दर्ज की है, आरोप है कि ‘उम्मेद पहलवान उर्फ़ इदरीस ने Ghaziabad के फेक न्यूज़ प्रकरण में पीड़ित अब्दुल समद को अपने घर ले जाकर झूठा बयान दिलवाया और जय श्रीराम-वंदेमातरम की फ़र्ज़ी कहानी गढ़ कर फेसबुक लाइव किया। एफआईआर दर्ज होने के बाद सपा नेता फरार हैं. यूपी पुलिस उनकी गिरफ़्तारी के लिए जगह-जगह पर छापेमारी कर रही है. जानकारी के मुताबिक सपा नेता इदरिस ने फेसबुक लाइव करके अपनी कौम के लोगों को भड़काने का काम किया। fir against umaid idrish


इदरीश से पहले अब्दुल समद का वीडियो झूठे दावे के साथ शेयर करने वाले ऑल्ट न्यूज़ के मोहम्मद जुबेर, पत्रकार राणा अयूब, न्यूज़ पोर्टल ‘द वायर’ कांग्रेस नेता सलमान निजामी, मसकूर उस्मानी, डॉ समा मोहम्मद, सबा नकवी और माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर के खिलाफ यूपी पुलिस ने गैर जमानती धाराओं 153/ 153A/ 295A/ 505 / 120B & 34 IPC के अंतर्गत FIR पंजीकृत की है. fir against umaid idrish

गौरतलब है कि गाजियाबाद के लोनी में मुस्लिम बुजुर्ग की कुछ लोगों ने दाढ़ी काट दी, मारपीट भी की, उसके बाद साजिश के तहत इसे ‘जय श्री राम से’ जोड़ दिया गया हिन्दुओं को बदनाम करने के लिए..जबकि पुलिस ने कहा कि आरोपित और पीड़ित पहले से परिचित थे। अब्दुल समद ने ताबीज देकर इसके सकारात्मक परिणाम का आश्वासन दिया था। ताबीज ने काम नहीं किया तो आरोपितों ने उसे पीट दिया। व्यक्तिगत विवाद की इस घटना में आरोपितों में हिन्दू और मुस्लिम, दोनों समुदायों के लोग थे। इसमें साम्प्रदायिक एंगल नहीं था, लेकिन कुछ लोगों ने इसे बनाना चाहा। अब ऐसे लोगों के खिलाफ यूपी पुलिस की कार्यवाही जारी है, जल्द ही गिरफ़्तारी होने के भी आसार हैं.