पूर्व DGP ने दिग्विजय को बताया देशविरोधी, कहा- इसने बाटला एनकाउंटर को झूठा बता आतंकियों का साथ दिया था

उत्तर प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक ( डीजीपी ) बृजलाल ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ( brijlal digvijaya article 370 ) को देशविरोधी बताया है, उन्होंने कहा कि दिग्विजय ने बाटला हॉउस एनकाउंटर को झूठा बताकर आतंकियों का साथ दिया था, पूर्व डीजीपी ने दिग्विजय के बारें में ऐसा ट्वीट तब किया जब दिग्गी राजा कश्मीर में धारा 370 फिर से लागू करने का ख्वाब देख रहे हैं. बाकायदा एक पाकिस्तानी पत्रकार को आश्वाशन दिया कि कांग्रेस सरकार बनी तो धारा 370 पर निश्चित ही पुर्नविचार होगा। दिग्विजय का ऑडियो लीक होने के बाद सियासत गरमा गई है.

पूर्व पुलिस महानिदेशक ( डीजीपी ) बृजलाल ने अपने ट्वीट में लिखा, दिग्विजय सिंह अक्सर देशविरोधी बात करते हैं। यही दिग्विजय इंड़ीयन मुजाहिदीन के आतंकवादियों के साथ खड़े थे और “बटला” पुलिस- मुठभेड़ को झूठा बता कर आतंकियों का साथ दिया था। पूर्व डीजीपी ने कांग्रेस को टैग करते हुए लिखा कि कांग्रेस को अपना स्टैंड स्पष्ट करना चाहिए। ( brijlal digvijaya article 370 )


एक तरफ पाकिस्तान कश्मीर में धारा 370 को बहाल करने के लिए दुनियाभर में माथा पटक रहा है, लेकिन कहीं मदद नहीं मिल रही है, दूसरी तरफ अब कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह भी कह रहे हैं कि अगर कांग्रेस की सरकार बनती है तो धारा 370 पर पुनर्विचार होगा। दिग्विजय सिंह का क्लबहॉउस ऑडियो लीक होने के बाद देश की सियासत गरमा गई है, उल्लेखनीय है कि केंद्र की मोदी सरकार ने ऐतिहासिक फैसला लेते हुए दो साल पहले ( 5 अगस्त, 2019 ) को कश्मीर से धारा 370 हटा दिया, अनुच्छेद-370 के तहत जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा मिला हुआ था, जो धारा 370 के साथ समाप्त हो गया। ( brijlal digvijaya article 370 )

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का एक क्लबहॉउस ऑडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह पाकिस्तानी पत्रकार को आश्वासन दे रहे हैं कि कांग्रेस सत्ता में आई तो #कश्मीर से #370 हटाने के फैसले पर पुर्नविचार होगा।

दरअसल कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के साथ क्लबहाउस ऐप में बातचीत के लिए जुड़े पाकिस्तानी पत्रकार शाहजेब जिलानी ने दिग्विजय सिंह ने कश्मीर मसले को लेकर सवाल पूछा, दिग्विजय ने जवाब देते हुए कहा, अनुच्छेद 370 को रद्द कर जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा खत्म करना अत्यंत दुखद निर्णय है। अगर कांग्रेस की सरकार बनती है तो निश्चित ही इसपर पुनर्विचार होगा।