जम्मू में हुए ड्रोन हमले पर बोले JDU नेता, दाऊद और हाफिज सईद को ड्रोन से उड़ाकर भारत दे पाकिस्तान को जवाब

26-27 जून की दरम्यानी रात को जम्मू वायुसेना स्टेशन के उच्च सुरक्षा तकनीकी क्षेत्र में दो धमाके हुए, इस धमाके में दो लोगों को मामूली चोटें आईं लेकिन वे खतरे से बाहर हैं। धमाकों के कुछ घंटे बाद वायु सेना स्टेशन के पास सतवारी इलाके में दो संदिग्धों को हिरासत में लिया गया। जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक ( डीजीपी ) दिलबाग सिंह ने इसे आतंकी हमला बताया है. जम्मू में हुए ड्रोन हमले के बाद अब जेडीयू नेता अजय आलोक ने कहा है कि भारत भी आतंकी हाफिज सईद और दाऊद को ड्रोन से उड़ाकर पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब दे. drone attack jammu airforce

जनता दल यूनाइटेड ( जेडीयू ) के नेता अजय आलोक ने कहा, जब पाकिस्तान ड्रोन से हमला कर सकता है तो भारत क्यों नहीं, उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ड्रोन से हमला जब वायु सेना स्टेशन जम्मू पे हो सकता हैं तो उसी ड्रोन से दाऊद और हाफ़िज़ सईद को भी उड़ाया जा सकता हैं, अब ज़रूरत हैं रॉ को मोसाद जैसा बनने की..जेडीयू नेता ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को टैग करते हुए लिखा, अमित शाह जी इन पाकिस्तानियो को इन्ही की भाषा में जवाब देना आप से बेहतर कोई नहीं जानता। drone attack jammu airforce


जम्मू में वायु सेना स्टेशन पर हुए ड्रोन हमले को लेकर जम्मू कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा, जम्मू एयरफोर्स स्टेशन में हुए धमाके आतंकी हमला हैं। ड्रोन को ही IED बम के तौर पर इस्तेमाल किया गया है। हमले की साजिश सीमा पार पाकिस्तान से रची गई है और इसे अंजाम देने वाले सीमा के भीतर ही मौजूद हैं. वायु सेना स्टेशन पाकिस्तान के साथ अंतर्राष्ट्रीय सीमा से लगभग 14-15 किलोमीटर दूर है। drone attack jammu airforce

अधिकारियों ने कहा कि ड्रोन के भारतीय क्षेत्र से नियंत्रित होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है। आतंकवादी हमले को अंजाम देने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल देश के लिए एक नए सुरक्षा खतरे की शुरुआत का प्रतीक है।