सचिन पायलट की घनघोर बेइज्जती, 4 दिन से दिल्ली में डाले थे डेरा, कांग्रेस आलाकमान ने मिलने से किया इनकार

image credit - Business Standard

सचिन पायलट की अब वो इज्जत कांग्रेस में नहीं रह गई है, जो बगावत से पहले थी, पिछले साल सचिन पायलट ने कई दिनों तक पार्टी से बगावत की थी. ऐसा करके उन्हें हासिल कुछ नहीं हुआ बल्कि पार्टी में उन्होनें अपनी प्रतिष्ठा अपनी वहज से गिरा ली, सचिन पायलट कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के बेहद करीबियों में से एक थे, जब मन करता था दिल्ली आते थे और राहुल गांधी से मुलाक़ात कर लेते थे, लेकिन बगावत के बाद पायलट के लिए राहुल के दरवाजे बंद हो गए. sachin pilot return jaipur

दरअसल सचिन पायलट जब राजस्थान के कुछ कांग्रेस विधायकों को अपने साथ लेकर भ्रमण कर रहे थे तो कांग्रेस आलाकमान कमान ने उन्हें कुछ आश्वाशन देकर समझाया, हालाँकि पायलट को जो आश्वाशन मिला था सालभर बीत जानें के बावजूद उसपर कोई अमल नहीं हुआ, अपनी मांगों को लेकर सचिन पायलट पिछले हफ्ते दिल्ली आये थे. सचिन पायलट करीब चार दिन दिल्ली में डेरा डाले रहे परन्तु कांग्रेस आलाकामन व् गांधी परिवार के किसी भी सदस्य ने पायलट से मिलने में दिलचस्पी नहीं दिखाई, जिससे नाराज होकर पायलट दिल्ली से जयपुर लौट आये हैं, ऐसी मीडिया में खबर चल रही है. sachin pilot return jaipur

पायलट खेले के सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया कि ‘राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, जो कि कांग्रेस के दिग्गज नेता हैं, जो अपनी चतुर राजनीति के लिए जाने जाते हैं, उन्होंने कड़ी मेहनत करके राज्य में कैबिनेट विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों को फिलहाल के लिए अधर में डाल दिया है। इससे पायलट गुट में आक्रोश है। sachin pilot return jaipur

उल्लेखनीय है कि पिछले साल सचिन पायलट ने जब बगावत की थी तो कांग्रेस ने उनकी उपमुख्यमंत्री की और प्रदेश अध्यक्ष पद की कुर्सी छीन ली थी. यही नहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नकारा-निकम्मा गद्दार तक घोषित कर दिया था, अशोक गहलोत सोनिया गांधी के ज्यादा करीबी हैं, इसलिए पायलट की दाल गल नहीं पा रही है.