धर्मांतरण के धंधेबाजों पर CM योगी सख्त, दोषियों पर NSA लगाने और संपत्ति जब्त करने का दिया आदेश

धर्मांतरण के धंधेबाजों के खिलाफ सीएम योगी आदित्यनाथ सख्त हो गए हैं, आरोपियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून ( NSA ) लगाने का आदेश दिया है, साथ ही सम्पत्ति जब्त करने का भी आदेश है, यूपी एटीएस इस पूरे मामलें की जांच कर रही है, एटीएस ने ही पूरे मामला का खुलासा किया। अब मुख्यमंत्री भी सख्त नजर आ रहे हैं. सीएम योगी ने अधिकारियों को सख्त आदेश देते हुए कहा, ऐसे लोगों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्यवाही होनी चाहिए।, सम्पत्ति भी जब्त होनी चाहिए ताकि दोबारा ये घिनौना कृकृत्य करने की कोई जुर्रत न कर सके और एटीएस पूरे मामलें के तह तक जाना चाहिए। conversion racket in up

उल्लेखनीय है कई कल यूपी पुलिस ने बड़े पैमाने पर धर्मांतरण का रैकेट चलाने वालों का ख़ुलासा करने का दावा किया, ADG लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने 2 लोगों की गिरफ्तारी के बाद सोची समझी साज़िश के तहत 1000 ग़ैर मुस्लिमों को मुस्लिम बनाए जाने की जानकारी मिलने की बात कही है. उत्तर प्रदेश एंटी टेरर स्क्वाड ( ATS ) ने दिल्ली से काजी जहांगीर आलम और मोहम्मद उमर गौतम को गिरफ्तार किया है, पुलिस ने दावा किया है कि ‘धर्मांतरण के लिए इन्हें ISI और विदेशी फंडिंग होती थी’ conversion racket in up

प्रेस-कॉन्फ्रेंस करते हुए उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एन्ड आर्डर प्रशांत कुमार ने कहा, ISI ( पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ) से फंडिंग होती थी, लगभग 1 हजार से ज्यादा लोगो को लालच देकर धर्मान्तरण करवाया गया है, उन्होंने कहा, मथुरा, वाराणसी समेत यूपी में कई धर्मांतरण करवाए गए हैं, मूक और बधिर बच्चों और कुछ महिलाओं को टार्गेट किया गया. conversion racket in up

गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी पुत्र ताहिर अख्तर निवासी ग्राम जोगाबाई, जामिया नगर, नई दिल्ली व मोहम्मद उमर गौतम पुत्र धनराज सिंह गौतम निवासी बाटला हाउस, जामिया नगर, नई दिल्ली के रूप में हुई है। उमर ने पूछताछ में बताया कि उसने अभी तक एक हजार गैर मुस्लिम लोगों को मुस्लिम धर्म में परिवर्तित कराया है और बड़ी संख्या में उनकी मुस्लिमों से शादी कराई है।