CM योगी ने अधिकारियों को दिया कड़ा निर्देश, साम्प्रदायिक उन्माद फैलाने वालों से सख्ती से निपटा जाय

गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग की पिटाई का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है, इस मामलें को दूसरे एंगल से जोड़कर सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार करने वालों के खिलाफ यूपी पुलिस ने कार्यवाही शुरू कर दी है, सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को स्पष्ट आदेश दिया है कि फेक न्यूज़ फैलाने ( yogi against fake news ) वालों से सख्ती से निपटा जाय, साम्प्रदायिक उन्माद फैलाने का कोई भी प्रयास स्वीकार्य नहीं है, सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत पटेल ने ट्वीट कर कहा, CM योगी जी ने सीधे शब्दों में अधिकारियों को निर्देश दिया है कि सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार करने वालों पर कठोरता से कार्रवाई करें। लोनी घटना पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि ‘फेक न्यूज ( yogi against fake news )  प्रसार करने वालों से सख्ती से निपटा जाए व साम्प्रदायिक उन्माद फैलाने का प्रयास स्वीकार्य नहीं।

गौरतलब है कि गाजियाबाद के लोने में मुस्लिम बुजुर्ग की कुछ लोगों ने दाढ़ी काट दी, मारपीट भी की, उसके बाद साजिश के तहत इसे ‘जय श्री राम से’ जोड़ दिया गया हिन्दुओं को बदनाम करने के लिए..जबकि पुलिस ने कहा कि आरोपित और पीड़ित पहले से परिचित थे। अब्दुल समद ने ताबीज देकर इसके सकारात्मक परिणाम का आश्वासन दिया था। ताबीज ने काम नहीं किया तो आरोपितों ने उसे पीट दिया। व्यक्तिगत विवाद की इस घटना में आरोपितों में हिन्दू और मुस्लिम, दोनों समुदायों के लोग थे। इसमें साम्प्रदायिक एंगल नहीं था, लेकिन कुछ लोगों ने इसे बनाना चाहा। ( yogi against fake news )


अब्दुल समद का वीडियो झूठे दावे के साथ शेयर करने वाले ऑल्ट न्यूज़ के मोहम्मद जुबेर, पत्रकार राणा अयूब, न्यूज़ पोर्टल ‘द वायर’ कांग्रेस नेता सलमान निजामी, मसकूर उस्मानी, डॉ समा मोहम्मद, सबा नकवी और माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर के खिलाफ यूपी पुलिस ने गैर जमानती धाराओं 153/ 153A/ 295A/ 505 / 120B & 34 IPC के अंतर्गत FIR पंजीकृत की है.

गाजियाबाद के लोनी से भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने थानाध्यक्ष लोनी बॉर्डर, गाज़ियाबाद को पत्र लिखकर सांप्रदायिक दंगा भड़काने की साजिश पर राहुल गांधी, सांसद असदुद्दीन ओवैसी, स्वरा भास्कर पर रासुका के तहत मुकदमा दर्ज़ करने की शिकायत की है। इन लोगों ने भी इस मामलें पर गलत दावे के साथ ट्वीट किया है.