सड़क जाम कर आंदोलन कर रहे लोगों ने किसान शब्द की पवित्रता भंग कर दी है: CM मनोहर लाल

CM Khattar
CM Khattar

केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए तीन नए कृषि कानून के विरोध में लगभग सात महीनें से दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर हो रहा किसान आंदोलन बार-बार हिंसक हो रहा है, आज एक बार फिर गाजीपुर बॉर्डर पर बवाल हो गया, उत्तर प्रदेश के भाजपा प्रदेश मंत्री अमित बाल्मिकी के काफिले पर किसान प्रदर्शनकारियों ने जानलेवा हमला कर दिया। लगभग 40-50 गाड़ियों को तोड़ दिया, तथाकथित किसानों ने लाठी-डंडे व् तलवारों से हमला किया, आंदोलनकारी किसानों द्वारा की गई हिंसा को लेकर अब हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर का बयान आया है, उन्होंने कहा, सड़क जाम कर आंदोलन कर रहे लोगों ने किसान शब्द की पवित्रता भंग कर दी है. manohar lal farmer protest

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर ने कहा, किसान देश का अन्नदाता है और समाज में किसान की महत्वपूर्ण भूमिका है। किसान के प्रति समाज में सम्मान का भाव है और किसान की परिभाषा पवित्र है लेकिन किसानों के नाम पर धरने पर बैठे हुए लोगों ने किसान शब्द की पवित्रता को भंग करने का काम किया है। manohar lal farmer protest


किसानों के नाम पर रास्ता रोके बैठे लोगों के कारण आसपास के गांवों व कस्बों के लोगों का कारोबार ठप्प है। आसपास की पंचायतें रास्ता खुलवाने के लिए धरना स्थलों पर जाकर बातचीत कर रही हैं ताकि रास्ते खुलें और व्यवसाय चल सकें। मुख्यमंत्री ने धरने पर बैठे लोगों से रास्ते खोलने की अपील की। manohar lal farmer protest

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि धरना स्थल पर हुई कई दुखद घटनाएं चिंता का विषय हैं। अलोकतांत्रित तरीके से किया गया कोई भी कार्य निदंनीय है। नए कृषि कानूनों को किसान हितैषी बताते हुए कहा कि नए कानूनों के लागू होने से किसानों को अपनी फसल इच्छानुसार मण्डी या ओपन मार्केट में बेचने की छूट रहेगी।

इससे पहले सीएम खटटर ने कहा था, किसान आंदोलन अगर शांति के साथ चलता रहे तो हमें कोई आपत्ति नहीं है लेकिन इसमें जो हिंसात्मक और अनैतिक गतिविधियां होने लग गई हैं, यह बुहत चिंता का विषय है। आंदोलन स्थल महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार करने का अड्डा बन गया है.