पंजाब में 24 PPS अफसर बने IPS तो कांग्रेस पर भड़के भीम आर्मी वाले रावण, बोले- दलितों को प्रमोशन क्यों नहीं?

पंजाब में 24 PPS अफसर बने IPS तो कांग्रेस पर भड़के भीम आर्मी वाले रावण, बोले- दलितों को प्रमोशन क्यों नहीं:-पंजाब सरकार ने बड़ा तोहफा देते हुए 24 PPS अफसरों को IPS के रूप में प्रमोशन दिया है, इस नियुक्ति पर भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर रावण ने सवाल उठाते हुए कहा कि ‘दलितों को प्रमोशन क्यों नहीं दिया गया, पंजाब की कांग्रेस सरकार पर दलितों का हक़ छीनने का आरोप लगाते हुए चंद्रशेकर रावण ने कहा है कि प्रमोशन लिस्ट तत्काल रद्द की जाय. उन्होंने कहा, बीजेपी-कांग्रेस कहीं भी सत्ता में हों, दलितों के हक छीनने से बाज नहीं आती।

भीम आर्मी और आजाद समाज पार्टी प्रमुख चंद्रशेखर रावण ने अपने ट्वीट में लिखा, हाल ही में पंजाब सरकार ने 24 PPS अफसरों को IPS के रूप में प्रोमोट किया है, पर इनमें एक भी दलित नहीं है। जबकि पंजाब में करीब 32% दलित हैं। बीजेपी कांग्रेस कहीं भी सत्ता में हों, दलितों के हक छीनने से बाज नहीं आती। इस जातिवादी प्रोमोशन लिस्ट को तत्काल रद्द किया जाए। इस ट्वीट में भीम आर्मी प्रमुख ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को टैग भी किया है.

भीम आर्मी प्रमुख के अलावा ‘राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग‘ के अध्यक्ष विजय सांपला के आदेश पर पीपीएस से आईपीएस में पुलिस अधिकारियों को पदोन्नत करते समय आरक्षण नीति का पालन न करने पर संज्ञान लेते हुए पंजाब सरकार को नोटिस जारी किया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस साल सात अप्रैल को, चौबीस पीपीएस-पंजाब पुलिस सेवा अधिकारियों को आईपीएस-भारतीय पुलिस सेवा संवर्ग के रूप में पदोन्नत किया गया था और कोई भी अनुसूचित जाति से नहीं था।

एनसीएससी ने पंजाब के मुख्य सचिव, गृह विभाग के सचिव और पंजाब पुलिस के महानिदेशक को नोटिस जारी कर 15 दिनों के भीतर जवाब देने के लिए कहा है। अब देखो पंजाब की अमरिंदर सरकार क्या जवाब दाखिल करती है.