योग करते वक्त ॐ के उच्चारण पर कांग्रेस नेता ने जताई आपत्ति, बाबा रामदेव बोले- ॐ बोलने में दिक्कत क्या है?

देश-दुनिया में आज सातवाँ ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ मनाया जा रहा है, इस अवसर पर राष्ट्र को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, योग कोरोनावायरस बीमारी (कोविड -19) के खिलाफ लड़ाई में आशा की किरण के रूप में उभरा है। हालाँकि कुछ लोग ऐसे भी हैं जो योग का विरोध भी करते हैं, अब कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने योग करते वक्त ॐ के उच्चारण को लेकर नया शिगूफा छोड़ दिया है, अप्रत्यक्ष रूप से सिंघवी ने योग करते वक्त ॐ के उच्चारण पर आपत्ति जाहिर की है….abhishek manu singhvi yoga

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता और कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्वीट कर कहा, ॐ के उच्चारण से ना तो योग ज्यादा शक्तिशाली हो जाएगा और ना अल्लाह कहने से योग की शक्ति कम होगी। सिंघवी के इस बयान के बाद योगगुरु स्वामी रामदेव ने कहा, ईश्वर-अल्लाह तेरो नाम, सबको सन्मति दे भगवान. अल्लाह, भगवान, ख़ुदा सब एक ही हैं, योग करेंगे तो सभी को परमात्मा एक ही दिखेगा. ॐ बोलने में दिक्कत क्या है? हम किसी को अल्लाह बोलने से मना तो नहीं कर रहे हैं’…abhishek manu singhvi yoga

बता दें की कोविड-19 महामारी के कारण लगातार दूसरे वर्ष अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस डिजिटल रूप से मनाया जा रहा है। इस साल की थीम ‘योग फॉर वेलनेस’ है। योग शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों को बढ़ाकर लोगों को अवसाद और चिंता जैसे संकटों से निपटने में मदद कर सकता है। आयुष मंत्रालय के अनुसार लगभग 190 देशों में यह दिवस मनाया जाएगा। abhishek manu singhvi yoga


संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा ने अपने प्रस्‍ताव 11 दिसंबर 2014 को स्‍वीकार करते हुए 21 जून को अंतर्राष्‍ट्रीय योग दिवस घोषित किया। UN में पीएम मोदी ने इसका प्रस्ताव रखा था, वर्ष 2015 से दुनियाभर में स्‍वस्‍थ जीवन के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय योग दिवस एक जन आंदोलन बन गया।

‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ पर राष्ट्र को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, जब भारत ने यूनाइटेड नेशंस में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का प्रस्ताव रखा था, तो उसके पीछे यही भावना थी कि ये योग विज्ञान पूरे विश्व के लिए सुलभ हो। आज इस दिशा में भारत ने यूनाइटेड नेशंस, WHO के साथ मिलकर एक और महत्वपूर्ण कदम उठाया है…