जिनके कागज बकरी खा गई थी, सिर्फ उनके ही हिस्से की वैक्सीन बाहर भेजी गई है: विवेक अग्निहोत्री

देशभर में कोरोना वायरस की दूसरी लहर जारी है, सरकार विरोधियों को अब कुछ नहीं मिला तो पूछ रहे हैं मोदी सरकार ने आखिर करोड़ों वैक्सीन भारत से बाहर क्यों दी, अब ऐसे लोगों को फिल्मेमकर विवेक अग्निहोत्री ने करारा जवाब दिया है, अग्निहोत्री ने एक तीर से दो शिकार किये है, पहला जो कह रहे हैं वैक्सीन बाहर क्यों भेजी, उन्हें जवाब दिया है, दूसरा ‘हम कागज नहीं दिखाएँगे’ चिल्लाने वालों पर तंज कसा है.

बॉलीवुड फिल्ममेकर विवेक रंजन अग्निहोत्री ने कहा, जिनके कागज बकरी खा गई थी, सिर्फ उनके ही हिस्से की वैक्सीन बाहर भेजी गई है, अग्निहोत्री ने अपने ट्वीट में लिखा, जिन लोगों को वैक्सीन विदेश भेजने से शिकायत है, उन्हें बता दो जिनके काग़ज़ बकरी खा गयी थी सिर्फ़ उनके हिस्से की ही बाहर भेजी थीं।

मालूम हो कि जब मोदी सरकार ने नागरिकता संसोधन कानून ( CAA ) को संसद के दोनों सदनों से पास करवाया था तो मुस्लिमों ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया था, इसके बाद मोदी कैबिनेट ने नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर ( एनपीआर ) की भी मंजूरी दे दी, इसके बाद तो विरोधी और आगबबूला हो गए और चिल्ला-चिल्लाकर कहने लगे, हम कागज नहीं दिखाएँगे। हालाँकि जो वैक्सीन लेगा उसे फोटो और आईडी देना होगा, बिना ये प्रक्रिया पूरे करे वैक्सीन मिलना संभव नहीं है.