थाईलैंड गर्ल केस: सपा नेता आईपी सिंह पर दर्ज हुई FIR

लखनऊ में थाईलैंड की महिला की कोरोना से मौत के मामले में राज्यसभा सांसद संजय सेठ की तरफ से समाजवादी पार्टी आईपी सिंह के खिलाफ लखनऊ के गौतमपल्ली थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है, दरअसल मामला यह है कि थाईलैंड की महिला की कोरोना से मौत के मामले में सपा नेता ने राज्यसभा सांसद संजय सेठ के बेटे का नाम लिया था, जिसके बाद सांसद की तरफ से एफआईआर दर्ज कराई गई है, जिसमें सोशल मीडिया के जरिए बदनाम करने का आरोप लगाया गया है

राज्यसभा सदस्य संजय सेठ ने साइबर सेल पुलिस से मृतक लड़की की पासपोर्ट और एजेंट सलमान की भूमिका की भी जांच करने की मांग की है, अगर कोई इसमें दोषी पाया जाता है तो उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। मिली जानकारी के मुताबिक़, यह एफआईआर संजय सेठ के निजी सहायक आलोक कुमार पांडे की तरफ से लिखवाई गई है।

एफआईआर दर्ज होने के बाद समाजवादी पार्टी के नेता आईपी सिंह की भी प्रतिक्रिया सामने आई है, आईपी सिंह ने ट्वीट कर लिखा, मीडिया के मित्रों से सूचना मिली की थाई गर्ल मामले में मेरे ऊपर ही मुक़दमा कर दिया गया है। बिना इलाज लड़की की मृत्यु हुई, शहर के नामी व्यापारी का नाम मीडिया रिपोर्ट में आया, ना पुलिस की लापरवाही पर कोई सवाल और ना दोषियों पर कार्यवाही। IP सिंह का जुर्म: जाँच की माँग करना।

उन्होंने आगे लिखा, आप अपनी कारिस्तानी छिपा नहीं पाएँगे।
स्थानीय प्रशासन ने-
– लड़की की मौत को छिपाया
– उसके मिलने वालों के नाम को दबाया
– इलाज के अभाव में कॉरिडार में मरने के लिए छोड़ दिया

IPC 500 की जो धारा मुझपर लगी है वो कोर्ट के माध्यम से लगनी चाहिए वो खुद पुलिस ने लगा दी। कर लीजिए मनमानी। आईपी सिंह ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, एक महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में और इलाज के अभाव में मृत्यु पर सवाल उठाना, इस प्रकरण की गंभीरता से जाँच करने की गुहार लगाना जुर्म है तो आइए..मेरी कोरोना रिपोर्ट अब निगेटिव है, मैं अपने गृह जनपद ग्राम उकरौड़ा में हूँ..आइए और गिरफ़्तार कर लीजिए मुझे…कर लीजिए तानाशाही..!