मुस्लिम बहुल लक्षदीप में बैन हुआ बीफ तो भड़क उठे राहुल गांधी, PM मोदी को पत्र लिखकर कहा, बैन हटाओ

मुस्लिम बहुल लक्षद्वीप प्रशासक ने सुधारों के नाम पर एक मसौदे को स्वीकृति दी है। इस मसौदे के अनुसार लक्षद्वीप में बीफ़ की खरीद और बिक्री पर रोक लगाने का फैसला किया गया है। लक्षद्वीप में 90 फ़ीसदी मुस्लिम आबादी है।प्रशासक के अनुसार वे इस मसौदे से केंद्र शासित प्रदेश का विकास करना चाहते हैं। लक्षद्वीप प्रशासक प्रफुल पटेल के इस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भड़क उठे हैं. और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर, लक्षद्वीप डेवलपमेंट ऑथरिटी रेगुलेशन के ड्राफ़्ट को वापस लेने की माँग की।

राहुल गांधी ने एडमिनिस्ट्रेटर प्रफुल्ल खोड़ा पटेल पर सामाजिक-सांस्कृतिक-आर्थिक स्वरूप को बदलने की कोशिश का आरोप लगाया है, बकौल राहुल गांधी, ‘कम अपराध वाले केंद्र शासित प्रदेश में कानून और व्यवस्था बनाए रखने की आड़ में, कठोर नियम असंतोष को दंडित करते हैं और जमीनी स्तर पर लोकतंत्र को कमजोर करते हैं.

लक्षद्वीप की प्राचीन प्राकृतिक सुंदरता और संस्कृति ने पीढ़ियों से लोगों को आकर्षित किया है, राहुल गांधी ने कहा कि “लक्षद्वीप के प्रशासक श्री प्रफुल पटेल द्वारा घोषित जनविरोधी नीतियों” से इसके लोगों का भविष्य खतरे में है। अपने पत्र में राहुल गांधी ने लिखा है ‘प्रशासक ने निर्वाचित प्रतिनिधियों या जनता से परामर्श किए बिना एकतरफा व्यापक परिवर्तनों का प्रस्ताव रखा है। लक्षद्वीप के लोग इन मनमानी कार्यों का विरोध कर रहे हैं.

राहुल गांधी के पत्र में कहा गया है कि पंचायत विनियमन के मसौदे में प्रावधान जो दो से अधिक बच्चों वाले सदस्यों को अयोग्य घोषित करता है, “स्पष्ट रूप से लोकतंत्र विरोधी” है। गांधी ने लिखा, “मैं आपसे ( प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ) इस मामले में हस्तक्षेप करने और उपरोक्त आदेशों को वापस लेने के लिए सुनिश्चित करने का अनुरोध करता हूं। लक्षद्वीप के लोग एक विकासात्मक दृष्टि के पात्र हैं जो उनके जीवन के तरीके का सम्मान करता है और उनकी आकांक्षाओं को दर्शाता है। केंद्र शासित प्रदेश में इतनी ज्यादा मुस्लिम आबादी होने की वजह से बीफ पर रोक लगने से मुस्लिम समाज में भी तनाव बढ़ा है।