अगर IMA अध्यक्ष ऑस्टिन जयलाल ने देश से बिना शर्त न मांगी माफ़ी तो FIR दर्ज कराएँगे वकील प्रशांत पटेल

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ( IMA ) इन दिनों सुर्ख़ियों में है, वजह योगगुरु बाबा रामदेव द्वारा एलोपैथी के खिलाफ दिए गए कथित बयान का विरोध करना, और क़ानूनी कार्यवाही की धमकी देना, लेकिन अब IMA अध्यक्ष के कुछ पुराने बयान वायरल हो रहे हैं जिसकी वजह से खुद IMA सवालों के घेरे में आ गया है, जी हाँ! कोई एलोपैथी के खिलाफ कुछ बोल दे तो इन्हें बहुत बुरा लगता है, लेकिन इनके अध्यक्ष जो पूर्व में कह चुके हैं कोरोना जीसस ने ठीक किया” इसका क्या?

वकील प्रशांत पटेल ने कहा है कि IMA अध्यक्ष जोनरोस ऑस्टिन जयलाल ने बिना शर्त देश माफ़ी न मांगी तो उनके खिलाफ अंधविश्वास फैलाने के आरोप में FIR पंजीकृत करवाई जाएगी। सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत पटेल ने अपने ट्वीट में लिखा, कोरोना जीसस ने ठीक किया” कहने के लिए अगर NGO IMA का अध्यक्ष जोनरोस ऑस्टिन जयलाल बिना शर्त पूरे देश से माफी नहीं मांगता है तो इसके विरुद्ध अंधविश्वास फैलाने के आरोप में FIR पंजीकृत करवाई जाएगी।

ऑपइंडिया के मुताबिक़, एक इंटरव्यू में IMA अध्यक्ष ने कहा था, ‘वे चाहते हैं कि IMA ‘जीसस क्राइस्ट के प्यार’ को साझा करे और सभी को भरोसा दिलाए कि जीसस ही व्यक्तिगत रूप से रक्षा करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि चर्चों और ईसाई दयाभाव के कारण ही विश्व में पिछली कई महामारियों और रोगों का इलाज आया। वे कोरोना के प्रकोप के कम होने के लिए भी जीसस को ही क्रेडिट देते हैं। IMA अध्यक्ष के इसी बयान के खिलाफ देशभर में आक्रोश है, क्योंकि एक तरफ ये विज्ञानं की पैरोकारी करते हैं, दूसरी तरफ खुद अन्धविश्वास को बढ़ावा देते हैं।