बंगाल हिंसा पर संत-समाज में नाराजगी, महंत परमहंसदास ने कहा, बंगाल में तत्काल राष्ट्रपति शासन लगे

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे आ गए हैं, ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली टीएमसी ने एक बार फिर से बंगाल में भारी बहुमत के साथ सरकार बना ली है, सरकार बनते ही गुंडों ने आतंक मचाना शुरू कर दिया है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि बंगाल के कुछ जिलों के हिन्दू अपनी जान बचाने के लिए पलायन करने को मजबूर हो रहे हैं, बंगाल में हो रही हिंसा ओर संत-समाज ने नाराजगी जताई है. अयोध्या के संत महंत परमहंसदास ने कहा, बंगाल में तत्काल राष्ट्रपति शासन लगाया जाय, इसके अलावा उन्होंने पीएम मोदी से अपील की है कि बंगाल को पाकिस्तान बनने से रोक लिया जाय.

तपस्वी छावनी के संत महंत परमदास ने कहा, परमहंस दास ने कहा कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने चुनाव के बाद ही कह दिया था कि खेला होबे. जब से चुनाव जीती है तब से लगातार वहां पर आपराधिक घटनाएं हो रही हैं. लोगों को मारा जा रहा है, आग लगाई जा रही है. उन्होंने कहा कि मैं राष्ट्रपति से मांग करता हूँ की बंगाल में तत्काल राष्ट्रपति शासन लगाया जाय.

परमहंस ने मांग किया है कि हिसा में मारे गए लोगों के 10 करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता एक सरकारी नौकरी दी जाए. जिनके मकान जलाए गए हैं उन्हें मकान दिया जाए. इसके अलावा उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कहा है कि पश्चिम बंगाल के हालात बहुत खराब है उसे पाकिस्तान ना बनने दिया जाए.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ( आरएसएस ) के सरकार्यवाहक दत्तात्रेय होसबाले ने बंगाल हिंसा की कड़े शब्दों में निंदा की है। उन्होंने कहा, राज्य सरकार से मांग की है कि हिंसा को रोकने के लिए तुरंत कदम उठाए जाएं। दत्तात्रेय होसबाले ने कहा, हम नवनिर्वाचित राज्य सरकार से आग्रह करते हैं कि उसकी सर्वोच्च प्राथमिकता राज्य में चल रही हिंसा को तुरंत समाप्त कर कानून का शासन स्थापित करना, दोषियों को अविलंब गिरफ़्तार कर कठोर कार्रवाई सुनिश्चित करना।