मिग-21 विमान हादसे में शहीद हुए 28 वर्षीय पायलट अभिनव चौधरी, 1 साल पहले ही हुई थी शादी

पंजाब के मोगा में गुरूवार देर रात भारतीय वायुसेना का लड़ाकू विमान मिग-21 क्रैश हो गया, इस हादसे में पायलट अभिनव की मौके पर ही मौत हो गई. ये फाइटर जेट राजस्थान के सूरतगढ़ से उड़ान भरा था। युवा पायलट अभिनव चौधरी की एक वर्ष पहले ही शादी हुई है, अभिनव के मौत की खबर सुनकर परिवार वालों का रो-रोकर बुराहाल है. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक़ अभिनव चौधरी के पिता सत्येंद्र चौधरी ने कहा, मैंने अपना शेर बेटा खो दिया। सब कुछ खत्म हो गया है।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक़, 28 वर्षीय स्क्वाड्रन लीडर अभिनव चौधरी मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बागपत के रहने वाले थे, एक साल पहले ही उनकी शादी हुई थी, अब विमान हादसे में उनकी जान चली गई है. फाइटर जेट मिग-21 राजस्थान के सूरतगढ़ से उड़ान भरा था। एयरबेस पर लौटते वक्त तकनीकी खराबी के कारण विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें पायलट अभिनव चौधरी की जान चली गई. पायलट का शव र्घटनास्थल से लगभग 2 किमी दूर मिला।

भारतीय वायुसेना ने दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का आदेश दिया है, इस साल मिग-21 विमान क्रैश की यह तीसरी दुर्घटना है। पहली घटना मार्च में हुई, दूसरी घटना जनवरी में हुई और तीसरी घटना मई में हुई।

मोगा के एसपी (मुख्यालय) गुरदीप सिंह ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “लगभग चार घंटे की गहन तलाशी के बाद अभिनव चौधरी का शव दुर्घटनास्थल से 2 किमी दूर पाया गया। अभिनव ने पैराशूट का उपयोग करके सुरक्षित उतरने की कोशिश की, लेकिन गर्दन और रीढ़ की हड्डी में गंभीर चोट आने के कारण उतर नहीं सके।

TOI की रिपोर्ट के मुताबिक़, सोवियत मूल के मिग-21 को 1963 में भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था, अब यह लड़ाकू विमान काफी पुराना हो चुका है, पिछले कुछ सालों में इस विमान की दुर्घटना दर काफी ज्यादा बढ़ी है, वायुसेना में 872 मिग-21 विमान शामिल किया गया था, 1971-72 के बाद से 400 से अधिक विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें 200 से अधिक पायलट और लगभग 50 नागरिकों की जान चली गई।