इजराइल का विपक्ष सरकार का समर्थन कर रहा है, भारत में होता तो राहुल गाँधी, केजरीवाल सबूत माँगते: मेजर पुनिया

यरुशलम की अल अक्सा मस्जिद पर जुमे की नमाज से शुरू हुआ संघर्ष अब इजरायल और फलस्तीनियों के बीच युद्ध में तब्दील होता जा रहा है। फिलिस्तीन का संगठन हमास ( इजराइल समेत कई देशों ने हमास को आतंकी संगठन घोषित कर रखा है ) गाजापट्टी से इजराइल पर रॉकेट दाग रहा है तो इजराइल हमास के रॉकेट को एयर डिफेंस सिस्टम को न सिर्फ हवा में ही नष्ट कर दे रहा है बल्कि इजराइली एयरफ़ोर्स आतंकियों के ठिकानें पर बमबारी करके ईंट का जवाब पत्थर से दे रही है. हमास के खिलाफ कार्यवाही कर रही इजराइली सरकार को अब देश के विपक्ष का भी समर्थन मिला है.

इजराइल के विपक्ष द्वारा सरकार का समर्थन करने को लेकर मेजर ( रिटायर्ड ) सुरेंद्र पुनिया ने कहा, इजराइल का विपक्ष सरकार का समर्थन कर रहा है, भारत में होता तो राहुल गाँधी, केजरीवाल सबूत माँगते। मेजर सुरेंद्र पुनिया ने अपने ट्वीट में लिखा, इजरायल अपने नागरिकों पर Hamas के हमले के ख़िलाफ़ ज़ोरदार कार्रवाई कर रहा है, उनका पूरा विपक्ष सरकार को कह रहा है ख़त्म करो दुश्मन को. भारत में यह होता तो राहुल गाँधी ,केजरी, लेफ़्ट विरोध ही नहीं सबूत भी माँगते। इज़राइल का पक्ष-विपक्ष-हर व्यक्ति राष्ट्रभक्त है।

आपको बता दें कि इजराइल के विपक्ष ने एकसुर में सरकार का समर्थन करते हुए कहा, दुश्मनों का नामोनिशान मिटा दो, हम साथ हैं, इजरायल के विपक्ष ने एक संयुक्त बयान जारी करते हुए कहा, राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मुद्दे पर हम कतई राजनीति नहीं करेंगे, ऐसे मौके पर हम सरकार के साथ हैं, सरकार इस समय फिलिस्तीन के खिलाफ जो कार्यवाही कर रही है वो बिल्कुल सही है, इजराइल के नागरिकों को जो छेड़ेगा, उसे छोड़ेंगे नहीं।

बता दें कि फिलीस्तीन के संगठन हमास (इजराइल इसे आतंकी संगठन कहता आया है) ने अपने कब्जे वाले इलाके गाजा पट्टी से इजराइल के यरूशलम पर 7 रॉकेट दागे। इसमें इजराइल का सिर्फ एक सैनिक मामूली तौर पर घायल हुआ। बाकी रॉकेट इजराइल के डिफेंस सिस्टम ने बीच में रोक गिए। इसके बाद इजराइल ने जवाबी कार्रवाई की और महज 10 मिनट में गाजा पट्टी के कई इलाके तबाह कर दिए। हमास का दावा है कि इजराइल की एयरस्ट्राइक में उसके 20 सदस्यों की मौत हो गई, जबकि 170 से ज्यादा घायल हैं।