महाराष्ट्र: 21 करोड़ रुपए की 7 किलो यूरेनियम के साथ ताहिर अफजल और जिगर गिरफ्तार

महाराष्ट्र एंटी टेरर स्क्वॉड ( एटीएस ) ने मुंबई में 21 करोड़ रुपये की 7 किलोग्राम यूरेनियम के साथ गिरफ्तार किया है, गिरफ्तार किये गए आरोपियों की पहचान अबु ताहिर अफजल हुसैन और मोहम्मद जिगर के रूप में हुई है, यूरेनियम का उपयोग परमाणु विस्फोटक बनाने के लिए किया जाता है। महाराष्ट्र एटीएस टीम को जानकारी मिली थी कि आरोपी भारी मात्रा में यूरेनियम को बेचने के लिए संभावित खरीदार की तलाश कर रहे थे। तदनुसार, एटीएस ने प्लान तैयार किया और आरोपियों को यूरेनियम के साथ ही धर दबोचा।

इंडिया टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, ATS के अनुसार उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि ठाणे का रहने वाला जिगर नाम का व्यक्ति 7 किलो नेचुरल युरेनियम बेचने की तैयारी कर रहा है और इसके लिए ग्राहक ढूंढ रहा है। ATS उसे लगातार ट्रैक करती रही और उसे पता चला कि जिगर ने यूरेनियम को मानखुर्द में रहने वाले किसी संदिग्ध व्यक्ति को बेचा है।

इसके बाद एटीएस ने सबसे पहले जिगर को गिरफ्तार किया और उससे सख्ती से पूछताछ की। पूछताछ में उसने बताया कि यूरेनियम एक स्क्रेप डीलर अबू ताहिर को बेचा है। इसके बाद ATS ने अबु ताहिर को गिरफ्तार किया और उससे भी पूछताछ जारी है। एटीएस की टीम ने कुर्ला मानखुर्द स्क्रेप यार्ड से 7 किलो 100 ग्राम के कन्साइनमेंट को अपने कब्जे में ले लिया है किया।

जानकारी के मुताबिक यूरेनियम की शुद्धता की जांच के लिए इसे एटीएम ने एक प्राइवेट लैब में टेस्ट के लिए भेजा था. जांच में पता चला कि यह यूरेनियम है जो कि पूरी तरह से शुद्ध है. इसके साथ ही एटीएम की टीम अब प्राइवेट लैब की ही मदद से अपराधियों के बारे में जानकारी जुटाने की कोशिश कर रही है. इसके साथ ही एटीएस की टीम ये भी पता लगाने की कोशिश में जुटी हुई है कि आरोपियों ने इतनी बड़ी मात्रा में यूरेनियम आखिर खरीदा कहां से.

मुंबई स्थित भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर के अधिकारियों ने इस यूरेनियम को वेरीफाई किया है. एटीएस अधिकारियों की माने तो अगर यह यूरेनियम गलत हाथों में लग जाए तो इसका इस्तेमाल विस्फोटक बनाने में किया जा सकता है. आरोपियों ने किसी प्राइवेट लैब में भी इस यूरेनियम की जांच करवाई थी और लैब वालों ने यूरेनियम की प्योरिटी बताने में आरोपियों की मदद की थी. महाराष्ट्र एटीएस प्राइवेट लैब की छानबीन करने में जुटी हुई है जहां से इस यूरेनियम की प्योरिटी टेस्ट करवाई गई थी.