दुर्दांत अपराधी शहाबुद्दीन की मौत से दुःखी हुए लालू यादव, बोले- ये मेरे लिए निजी क्षति है

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल ( आरजेडी ) के पूर्व सांसद और दुर्दांत अपराधी शहाबुद्दीन की मौत हो गई, मिली जानकारी के मुताबिक, शहाबुद्दीन कोरोना से संक्रमित था. दिल्ली की तिहाड़ जेल में उम्रकैद की साज काट रहे शहाबुद्दीन को कोरोना संक्रमित होनें के बाद दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी मौत हो गई।

शहाबुद्दीन की मौत के बाद आरजेडी मुखिया लालू प्रसाद यादव काफी दुःखी हैं, उन्होंने कहा, यह मेरे लिए निजी क्षति है, लालू यादव ने ट्वीट कर लिखा, शहाबुद्दीन के निधन की ख़बर सुन मर्माहत हूँ। ये मेरे लिए निजी क्षति है। मैं और राबड़ी देवी ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि ईश्वर मरहूम को जन्नत में मक़ाम दें और इस दुःख के घड़ी में हिना शहाब को सब्र और हिम्मत दें।

आपको बता दें कि साल 2004 में शहाबुद्दीन और उनके गुर्गों ने एक व्यापारी के दो नौजवान बेटों को तेजाब से नहलाकर ह्त्या कर दी थी, इसी मामलें में शहाबुद्दीन उम्रकैद की सजा काट रहा था, बिहार में इस हत्याकांड को ‘सीवान तेजाब कांड’ नाम से जाना जाता है। दोनों लड़कों की हत्‍या रंगदारी न देने चलते की गई थी। 16 अगस्त 2004 को कारोबारी चन्द्रकेश्वर प्रसाद उर्फ चंदा बाबू के दो बेटों- गिरीश और सतीश का उनकी दुकान से अपहरण किया गया था। इसके बाद उन्‍हें सीवान के प्रतापपुर गांव ले जाया गया, जहां तेजाब डालकर उनकी हत्या कर दी गई थी।

आपको बता दें कि शहाबुद्दीन सीवान से आरजेडी का सांसद था, लालू यादव का बेहद करीबी था, ‘सीवान तेजाब कांड’ मामलें में शहाबुद्दीन पर आईपीसी की धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया गया पर गिरफ्तारी नहीं हुई। लेकिन 2005 में जब नीतीश कुमार की सरकार आ गई तब शहाबुद्दीन पर शिकंजा कस गया। उसी साल शहाबुद्दीन को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था। तभी से शहाबुद्दीन जेल में था और अब मर गया.