पूर्णिया काण्ड पर वरिष्ठ पत्रकार का सनसनीखेज खुलासा, दलितों को भगा बांग्लादेशी और रोहिंग्याओं को बसाने की..?

बिहार के पूर्णिया जिले के बायसी थाना के खपड़ा पंचायत के मझुवा गाँव में मुस्लिम भीड़ ने न सिर्फ महादलित बस्ती के एक दर्जन से अधिक घरों को आग के हवाले कर दिया बल्कि बस्ती के चौकीदार की पीट-पीट कर हत्या कर दी। वारदात की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँची और दमकल की मदद से आग पर काबू पाया गया। मिली जानकारी के मुताबिक़, भीड़ ने कई महिलाओं और दलितों के साथ बेरहमी से मारपीट की. इस पूरी वारदात में गांव के कई लोग घायल हुए हैं।

पूर्णिया काण्ड को लेकर अब वरिष्ठ पत्रकार ब्रजेश कुमार सिंह ने सनसनीखेज खुलासा किया है, पत्रकार का दावा है कि महादलितों को भागकर बांग्लादेशी और रोहिंग्याओं को बसाने की साजिश रची जा रही है. नेटवर्क18 ग्रुप के मैनेजिंग एडिटर व् वरिष्ठ पत्रकार ब्रजेश सिंह ने ट्वीट कर कहा, बिहार के पूर्णिया में दलितों पर भयानक अत्याचार हुआ है, एक महादलित की हत्या की गई है, महादलितों की झोपड़ियों में आग लगा दी गई, महिलाओं के कपड़े फाड़ दिये गये। लेकिन कोई सेक्युलर नेता इसकी नोटिस लेने को तैयार नहीं और न ही दलित अधिकारों की बात करने वाले नेता मचा रहे हैं कोई हल्ला।

दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, तीन दिन पहले ये घटना हुई है। दलितों के ख़िलाफ़ हिंसा को अंजाम देने वाले मुस्लिम समुदाय के लोग हैं। महादलितों को भगाकर यहाँ बांग्लादेशी घुसपैठियों और रोहिंग्याओं को बसाने की साज़िश रची जा रही है, स्थानीय लोगों का ये आरोप है। पूरे मामले की जाँच ज़रूरी है, ताकि सच्चाई सामने आ सके।

पत्रकार ने लिखा, पूर्णिया के बायसी प्रखंड के मझुआ में ये महादलित परिवार पिछले तीन दशक से रह रहे थे। अब आसियाना उजाड़े जाने से ये अपने ही गाँव में शरणार्थी हो गये हैं। ये घटना 19 मई की है यानी पूरे छह दिन हो गये इस वारदात के। अब तक पांच लोगों की गिरफ़्तारी हुई है। पीड़ित परिवार फ़िलहाल टेंट में रह रहे हैं। ( पूर्णिया काण्ड को यहाँ पढ़ सकते हैं )