इजराइल में रहकर सोशल मीडिया पर फिलिस्तीन के समर्थन में लिखने वालों को कड़ी सजा देगी इजराइली सरकार

गाजा पट्टी में इजरायली सेना और फलिस्तीनी लड़ाकों के बीच गोलाबारी तेज हो गई है। सोमवार से अब तक कम से कम 65 फलिस्तीनी और छह इजरायल के नागरिक मारे गए हैं। इजराइली शहर अश्‍क्लॉन में कल हुए रॉकेट हमले में एक भारतीय महिला भी मारी गई। इसकी पहचान केरल के इद्दुक्की जिले में कांजीकुझी पंचायत की रहने वाली सौम्‍या के रूप में हुई है।

एक तरफ जहाँ इजराइल और फिलिस्तीन के बीच रॉकेट और मिसाइल से संघर्ष हो रहा है तो वहीँ सोशल मीडिया पर भी माहौल गर्म है, इजराइल ने घर में छुपे गद्दारों को भी सजा देने का ऐलान किया है, दरअसल इजराइल में रहकर जो इजराइली सोशल मीडिया पर फिलिस्तीन के समर्थन में लिखेगा इजराइली सरकारी उसे दण्डित करेगी।

इजराइल ने अपने नागरिकों से कहा है की जो भी इजरायली सोशल मीडिया पर फिलिस्तीन के पक्ष में लिख रहा है, वीडियो बना रहा है, उसके बारे में सरकार को जानकारी दें, सरकार ऐसे लोगो को ढूंढ ढूंढ कर सजा देगी। मालूम हो कि भारत और पाकिस्तान के बीच जब कुछ होता है तो भारत में बैठे कुछ गद्दार खुलेआम पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हैं, लेकिन सरकार उन्हें दण्डित नहीं करती है.

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, इजराइल ने कल गज़ा पट्टी में सैकड़ों हवाई हमले किए और फलिस्तीनी लड़ाकों ने तल अवीव और दक्षिणी शहर बिर्शेबा को निशाना बनाकर कई रॉकेट दागे। इजराइल के रक्षामंत्री बेनी गैंट्ज़ ने कहा कि गाजा में फलिस्तीनी लड़ाकों के समूहों पर हमले तब तक जारी रहेंगे, जब तक वे पूरी तरह शांत नहीं हो जाते। उन्‍होंने कहा कि इस तरह की सैन्य कार्रवाई से कोई भी युद्धविराम समझौता असंभव होगा।

इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से फोन पर बात कर अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इजराइल को समर्थन देने का ऐलान किया, उन्होंने कहा, हमास हजारों रॉकेट दाग रहा है ऐसे में इजराइल को आत्मरक्षा करने का अधिकार है.