7 हजार की दवा में 5900 रूपये कमीशन खा रहा था डॉक्टर, पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

डॉक्टर भगवान का दूसरा रूप होते हैं. कहते हैं जब कोई बीमार हो या किसी पीड़ा से ग्रस्त हो तो पहले भगवान का नाम मुंह से निकलता है, फिर डॉक्टर में ही उसे भगवान दिखता है। लेकिन आज कल कुछ ऐसे भी डॉक्टर हैं जो चंद पैसों के लिए डॉक्टर जैसे पेशे को कलंकित कर रहे हैं, जी हाँ! यूपी के शाहजहाँपुर राजकीय मेडिकल कॉलेज से एक मामला सामने आया है, जहाँ एक डॉक्टर 7 हजार की दवा में 5900 रूपये कमीशन लेता था.

हिंदुस्तान अख़बार में छपी खबर के मुताबिक, राजकीय मेडिकल कॉलेज में एक डॉक्टर मरीजों को निजी तौर पर देख रहा है, डॉक्टर एक मरीज को कम से कम सात हजार रूपये प्रतिदिन की दवा लिख रहा है, दवा वह भी सेट मेडिकल स्टोर से खरीदने को कहता है, वही दवा दूसरे मेडिकल स्टोरों पर 1100 रूपये प्रतिदिन के हिसाब से मिल रही है. यानि सीधे-सीधे 5900 रूपये दलाली खायी जा रही है. चौक कोतवाली इंस्पेक्टर प्रवेश सिंह ने बताया कि डॉ अनिल राज के खिलाफ मुदकमा दर्ज हो गया है।

तिलहर के महमदपुर गांव निवासी रजनीश कुमार ने बताया कि पिता रतीराम बीमार हैं, 15 दिन पहले पिता रतीराम को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया, एक डॉक्टर ने मेडिकल स्टोर से दवा लाने को कहा, डॉक्टर के कहने पर रोजाना दवा लाता था, जिसकी कीमत प्रतिदिन 7 हजार रूपये होती थी. १० मई को रिश्तेदार संतराम पिता को देखने आये. तब उनके साथ दूसरे मेडिकल स्टोर से रैपर दिखाकर दवा खरीदी तो वही दवा सिर्फ 11 सौ रूपये की मिली।

डॉक्टर को इस बात की भनक लगते ही वह भड़क उठा और मरीज को ले जानें के लिए कहा, परिजन डॉक्टर से लाख मिन्नत करते रहे पर वह नहीं माना। गालियां दी और फिर जबरन मरीज को बेड से नीचे उतार दिया। हिंदुस्तान के मुताबिक़, जानकारी करने पर पता चला कि मेडिकल स्टोर उन्हीं डॉक्टर साहब का है जो एक दिन की दवा 7 हजार रूपये में मिलती है, जबकि दूसरे मेडिकल स्टोर पर यही दवा 11 सौ रूपये में मिलती है।