अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में कोरोना का कहर! 2 हफ्ते के अंदर 15 प्रोफेसर समेत 40 लोगों की मौत

देशभर में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कोहराम जारी है, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी ( AMU ) भी कोरोना के कहर से अछूता नहीं रहा है, प्रोफेसर से लेकर अन्य स्टॉफ तक करोना की चपेट में आये हैं, AMU में भीषण कोरोना विस्फोट हुआ है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि महज एक हफ्ते के अंदर 15 प्रोफेसर समेत AMU में 40 लोगों की मौत हो चुकी है।

कोरोना की चपेट में AMU के कई रिटायर्ड प्रोफेसर भी आये हैं, इसके अलावा कई कर्मचारियों की भी कोरोना वायरस से मौत हुई है, ये स्थिति अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के अंदर की है. जहाँ पर अबतक 40 लोगों की मौत हो चुकी है, यानि AMU में कोरोना बहुत तेजी से कहर बरपा रहा है। यानि अगर सावधानी न बरती गई तो और हानि हो सकती है।

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में फैकल्टी ऑफ लॉ के प्रोफेसर शकील अहमद समदानी का शनिवार को जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इंतकाल हो गया, जहां उनका कोरोनावायरस का इलाज चल रहा था। एएमयू के प्रवक्ता राहत अबरार ने कहा कि 59 वर्षीय समदानी को 10 दिन पहले अस्पताल में भर्ती कराया गया था, क्योंकि उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. उन्होंने कहा कि शुरू में वह ठीक हो गए थे लेकिन कुछ दिन पहले उनकी तबियत अचानक बिगड़ गई। और फिर मौत हो गई. एएमयू के प्रवक्ता ने कहा, मरने वाले सभी या तो COVID -19 पॉजिटिव थे या COVID-19 जैसे लक्षण थे.

AMU के कंप्यूटर विज्ञान विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर रफीकुल ज़मान खान (55) का शुक्रवार को इंतकाल हो गया, दो दिन पहले, Law Department के पूर्व प्रोफेसर मोहम्मद शब्बीर अहमद (70) की मौत COVID जैसे लक्षणों से हुई थी। AMU प्रवक्ता ने कहा कि वह कानून विभाग में अंबेडकर अध्यक्ष के संस्थापक-प्रमुख थे और उन्होंने एएमयू के वॉइस चांसलर के रूप में भी काम किया था।