किसान आंदोलन में पहुंचा कोरोना, टीकरी बॉर्डर पर 25 वर्षीय महिला की मौत

कोरोना वायरस अब किसान आंदोलन में भी पहुँच चुका है, कोरोना की वजह से टिकरी बॉर्डर पर एक महिला के मौत की खबर सामनें आ रही है, स्वराज्य मैगजीन के मुताबिक़, मृतक महिला बंगाल के कम्युनिस्ट नेता उत्सव बसु की बेटी मोमिता बसु (25) है, जिसकी मौत कोरोना के कारण शुक्रवार (30 अप्रैल) को हो गई थी, वह 12 अप्रैल को दिल्ली के टीकरी बॉर्डर पर चल रहे कथित किसान आंदोलन में पहुंची थी और 26 अप्रैल को बीमार हो गई. उसके बाद कोरोना टेस्ट हुआ और रिपोर्ट पॉजिटिव निकली, बताया जा रहा है कि कोविड पॉजिटिव होने के अलावा उसके फेफड़ों में संक्रमण था.

पंजाब किसान यूनियन की नेता जसबीर कौर नट ने संवाददाताओं से कहा, वह एक सक्रिय लड़की थी और किसान आंदोलन के विभिन्न कार्यक्रमों में भाग ले रही थी। जब वह 26 अप्रैल को असहज महसूस कर रही थी, तो मेरी बेटी नवकिरण कौर नट उसे बहादुरगढ़ के एक निजी अस्पताल में ले गई। उसे अस्पताल में भर्ती कराने के लिए उसे काफी मशक्कत करनी पड़ी। कोरोना टेस्ट हुआ, उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई. शुक्रवार शाम को निधन हो गया।

ऑपइंडिया के मुताबिक, हरियाणा पुलिस के सूत्रों के हवाले से सीएनएन-न्यूज 18 ने जानकारी दी है कि हाल ही में कोरोना के कारण जान गँवाने वाली लड़की के साथ टिकरी बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन स्थल पर छेड़छाड़ हुई थी। इस मामले में लड़की ने शिकायत भी दर्ज कराई थी।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार द्वारा बनाये तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में लगभग हजारों किसान पिछले कई महीनों से दिल्ली की कई सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं, अबतक केंद्र सरकार और आंदोलनकारी किसान नेताओं के बीच 11 दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन कोई हल नहीं निकल सका है, किसान चाहते हैं तीनों कृषि कानून रद्द हो, वहीँ केंद्र सरकार का कहना है कि किसान बताएं, कानून में जो खामियां हैं उसे संसोधित कर देंगे।