फिलिस्तीन के समर्थन में उतरा कांग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी, बोल दिया यह बड़ी बात!

गज़ा पट्टी में इजरायली सेना और फलिस्तीनी लड़ाकों के बीच गोलाबारी तेज हो गई है। सोमवार से अब तक कम से कम 65 फलिस्तीनी और छह इजरायल के नागरिक मारे गए हैं। इजराइली शहर अश्‍क्लॉन में हुए रॉकेट हमले में एक भारतीय महिला भी मारी गई। इसकी पहचान केरल के इद्दुक्की जिले में कांजीकुझी पंचायत की रहने वाली सौम्‍या के रूप में हुई है।

इजराइल और फिलिस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष को लेकर भारत में भी चर्चा हो रही है. भारत के अधिकांश लोग एक तरफ जहाँ इजराइल के पक्ष में पोस्ट लिख रहे हैं, समर्थन कर रहे हैं तो वहीँ कांग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी ने फिलिस्तीन का समर्थन किया है, एक शायरी के माध्यम से इमरान प्रतापगढ़ी ने फलीस्तीनियों को मजलूम बताया है।

#AlAqsa #SavePalestine हैशटैग के साथ इमरान प्रतापगढ़ी ने खुद की पढ़ी हुई एक शायरी पोस्ट की है अपने ट्विटर हैंडल पर, हैं उनका फ़क़त इक नज़रिया लहू का है सहरा में भी आज दरिया लहू का. जिधर देखता हूँ लहू ही लहू है, ख़ुदाया बता दे क्यूँ ख़ामोश तू है। ये इराक, काबुल, फलस्तीन वाले ये मजलूम-ओ-बेबस तेरे दीन वाले। यूं अश्कों से दामन भीगोते रहेंगे। खुदा कब तलक जुल्म होते रहेंगे!

एक फेसबुक पोस्ट में कांग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी ने लिखा, जिसकी परवाज़ है आसमानों तलक ज़ख़्मी ज़ख़्मी मैं वो एक शाहीन हूँ, मैं फ़िलिस्तीन हूँ. बता दें कि इमरान प्रतापगढ़ी ने मुरादाबाद से कांग्रेस के टिकट पर 2019 में लोकसभा चुनाव लड़ा था. लेकिन जमानत जब्त हो गई थी।

आपको बता दें कि इजराइल भारत का पक्का मित्र है, नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत से इजराइल के रिश्ते और प्रगाढ़ हुए, 1998 में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी जी के शासनकाल में भारत ने पोखरण में परमाणु परीक्षण किया तो सिर्फ 1 ही देश ने ही भारत समर्थन किया था। वह देश था इजरायल।