जनभावना की विजय: शादी समारोह को उजाड़ने वाले तानाशाह DM शैलेश यादव को CM बिप्लब ने किया सस्पेंड

शादी में लट्ठ चलवाने वाले, परिवार व् रिश्तेदारों को खुलेआम बेइज्जत, बेहूदगी से बात करने वाले त्रिपुरा वेस्ट के जिलाधिकारी ( डीएम ) शैलेश यादव को सस्पेंड कर दिया गया है, डीएम शैलेश यादव की तानाशाही का वीडियो वायरल होने के बाद त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने एक जांच कमेटी नियुक्त की, जांच की रिपोर्ट आते ही डीएम शैलेश यादव की खिलाफ बड़ी कार्यवाही करते हुए उन्हें सस्पेंड कर दिया है. रावल हीरेन्द्र कुमार को त्रिपुरा वेस्ट का नया डीएम बनाया गया है. यह जानकारी त्रिपुरा के कानून मंत्री रतन लाल नाथ ने रविवार को दी।

दरअसल सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें डीएम साहब कोरोना के कारण एक शादी समारोह को बेहद ही गलत ढंग से रुकवा रहे थे, बारातियों पर पुलिस से लठ भंजवा रहे थे, दूल्हे व् उसके रिश्तेदारों से बेहूदगी से बात कर रहे थे. वीडियो वायरल होने के बाद त्रिपुरा के कई भाजपा विधायकों ने मुख्यमंत्री विप्लब देब को पत्र लिखकर डीएम शैलेश यादव को सस्पेंड करने की मांग की थी.

वायरल वीडियो में डीएम शैलेश यादव कहते हैं कि ‘शादी में उपस्थित सभी लोगों ने सीआरपीसी की धारा 144 का उल्लंघन किया है. सभी पर कार्यवाही की जाएगी, इस घटना के बाद पश्चिम त्रिपुरा की सांसद और भाजपा नेता प्रतिमा भौमिक ने कहा कि वह दुल्हन के रिश्तेदारों से मिलने जाएंगी और उनसे इस घटना के बारे में बात करेंगी। कल रात जो हुआ वह सबसे ज्यादा अवांछित है। ऐसा नहीं होना चाहिए था. सुदीप रॉय बर्मन, आशीष कुमार साहा और सुशांत चौधरी सहित कई भाजपा विधायकों ने मुख्य सचिव मनोज कुमार को पत्र लिखकर डीएम को हटाने की मांग की थी।

वायरल वीडियो में डीएम शैलेश यादव काफी गुस्से में भी दिखे। इस दौरान डीएम ने कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन कर रहे लोगों को वहां से भगा दिया। इतना ही नहीं डीएम शैलेश यादव ने दूल्हे को भी धक्के मारकर बाहर निकाल दिया। साथ ही डीएम शैलेश ने कई लोगों के साथ अभद्रता भी की। इस दौरान डीएम शैलेश यादव ने भाषाई स्तर पर भी सारी सीमाओं को लांघ दिया।