जिनपिंग की अब खैर नहीं: चीन की ऐसी-की-तैसी करने में जुटे बाइडेन, जांच एजेंसियों से मांगी रिपोर्ट

दुनियाभर में कोरोना फैलानें वाले चीन की अब खैर नहीं है, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन अब कोरोना को लेकर जिनपिंग की खटिया खड़ी करने की मुहिम में जुट गए हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने खुफिया एजेंसियों को तहकीकात का दायरा बढ़ाने का निर्देश दिया है और इसकी रिपोर्ट 90 दिनों में पेश करने को कहा है।

जो बाइडेन ने कोरोना वायरस के पीछे चीन की भूमिका तलाशने का भी निर्देश दिया है, अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन ने कहा कि वायरस जानवर से फैला या किसी प्रयोगशाला से, ये बात साफ होनी चाहिए। जांच के लिए बाइडेन ने दुनियाभर के देशों से सहयोग भी मांगा है, इससे चीन पर जांच में भाग लेने का दबाव बढ़ेगा।

अमेरिकी मीडिया में लगातार सवाल खड़े हो रहे हैं कि आखिर कोरोना की शुरुआत कहां से हुई और क्यों चीन पारदर्शी जांच से परहेज करता है। इससे पहले अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा था, चीन ये जानता है कि कोविड के शुरूआती चरणों में उसने ऐसा कुछ नहीं किया जिसे किए जाने की जरूरत थी। चीन ने अंतरराष्‍ट्रीय विशेषज्ञों को अपने यहां पहुंच नहीं बनाने दी, जानकारी साझा नहीं करने दी और वा‍स्‍तविक पारदर्शिता नहीं उपलब्‍ध कराई। विदेश मंत्री ने कहा कि इसका एक परिणाम यह रहा कि इस वायरस पर नियंत्रण तेजी से हाथ से निकल गया।

यूरोप, अमरीका, ऑस्‍ट्रेलिया और जापान के 24 वैज्ञानिकों ने एक पत्र जारी किया है जिसमें व्‍यापक जांच पूरा करने के कदमों का विश्‍लेषण किया गया है। वैज्ञानिकों ने जैव सुरक्षा और जैव संरक्षा विशेषज्ञों से जांच कराने का अनुरोध किया है।