नारदा घूसकांड: TMC के चारों आरोपी नेताओं को सीबीआई कोर्ट ने 10 घंटे के अंदर ही दी जमानत

पश्चिम बंगाल में केन्‍द्रीय अन्‍वेषण ब्‍यूरो -सीबीआई की अदालत ने नारदा मामले में गिरफ्तार चार नेताओं को अंतरिम जमानत दे दी है। सीबीआई के अधिकारी आज सवेरे मंत्री सुब्रत मुखर्जी तथा फिरहाद हाकिम और विधायक मदन मित्रा तथा कोलकाता के पूर्व महापौर सोवन चटर्जी को कोलकाता में जांच एजेंसी के मुख्‍यालय लेकर गए और उन्‍हें गिरफ्तार कर लिया।

सीबीआई की अदालत में वर्चुअल सुनवाई के दौरान, इनके खिलाफ दायर आरोप-पत्र पेश किया गया। न्‍यायाधीश ने सीबीआई की दलील नामंजूर कर दी और आरोपियों की जमानत मंजूर कर ली। मुख्‍यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी स्‍वयं सीबीआई मुख्‍यालय गईं और वहां छह घंटे तक रहीं। पार्टी के समर्थकों ने कोविड प्रतिबंधों का उल्‍लंघन करते हुए समूचे राज्‍य में विरोध-प्रदर्शन किए।

पुलिस ने हिंसक भीड़ को तितर बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया। तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों ने कोलकाता में राजभवन के सामने विरोध प्रदर्शन किया। राज्‍यपाल जगदीप धनखड ने कानून और व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए उचित कार्रवाई नहीं करने के लिए राज्‍य प्रशासन की आलोचना की। बता दें कि टीएमसी के चारों नेताओं को सीबीआई ने सुबह ही गिरफ्तार किया था और शाम तक जमानत दे दी.