बंगाल में हालात भयावह, केंद्रीय मंत्री के काफिले पर टूट पड़ी TMC गुंडों की भीड़, लाठी-डंडों से हमला किया

बंगाल में हालात बहुत भयावह हो चुके हैं, हिंसा, अराजकता अपने चरम पर है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि केंद्रीय मंत्री भी बंगाल में सुरक्षित नहीं बच पा रहे हैं, उनपर भी हमलें हो जा रहे हैं, जब केंद्रीय मंत्री पर हमला करते वक्त गुंडे नहीं डर रहे हैं तो सोंचिये ये आम लोगों का क्या हाल करते होंगे।केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन के काफिले पर गुरुवार दोपहर को बंगाल में हमला हो गया, भाजपा का आरोप है कि हमला टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने किया।
घटना पश्चिम मिदनापुर के पंचखुड़ी इलाके में हुई। गनीमत यह रही कि केंद्रीय मंत्री बच गए लेकिन उनके चालक चमेक समेत कई लोगों को गंभीर चोटें आई हैं.

घटना से जुड़ा वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, इस वीडियो को खुद केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया है, मुरलीधरन ने अपने ट्वीट में लिखा, “टीएमसी के गुंडों ने पश्चिम मिदनापुर में मेरे काफिले पर हमला किया, खिड़कियों को तोड़ा, निजी कर्मचारियों पर हमला किया।” इंडिया टीवी से बात करते हुए मुरलीधरन ने कहा कि यह हमला टीएमसी कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया था। उन्होंने कहा कि यह घटना पुलिस की मौजूदगी में हुई. उन्होंने कहा, हमलें में टीएमसी गुंडे शामिल थे, हम पुलिस में शिकायत दर्ज कराएँगे।

भाजपा ने आरोप लगाया है कि टीएमसी गुंडों ने उसके कई कार्यकर्ताओं को मार डाला है, महिला कार्यकर्ताओं पर हमला किया है, घरों में तोड़फोड़ की है, बीजेपी कार्यकर्ताओं की दुकानों को लूटा और कार्यालयों में तोड़फोड़ की। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में भाजपा 77 सीटों के साथ मुख्य विपक्षी दल बनकर उभरी है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद की हिंसा के कारणों की जांच के लिए चार सदस्यीय टीम का गठन किया है, मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव के नेतृत्व में टीम आज दोपहर कोलकाता पहुंची। इससे पहले, बुधवार को, एमएचए ने पश्चिम बंगाल सरकार को चुनाव पूर्व हिंसा पर एक विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने और ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए थे, गृह मंत्रालय ने चेतावनी दी थी कि यदि राज्य ऐसा करने में विफल रहता है तो मामले को “गंभीरता से” लिया जाएगा।