अमिताभ बच्चन ने पिता कि कविता पढ़ कोविड वॉरियर्स को किया प्रोत्साहित

amitabh bachchan recites father poem to encourage corona warriors

देश में बढ़ती कोरोना महामारी में बॉलीवुड के सितारे भी अलग-अलग तरीके से लोगों की मदद कर रहे हैं। इसी बीच बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन लोगों की फाइनेंशियल हेल्प कर रहै हैं तो वहीं दूसरी ओर महानायक ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो कोरोना वॉरियर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स का मनोबल बढ़ाने के लिए अपलोड की है जिसमें वह अपने पिता हरिवंशराय बच्चन की एक कविता पढ़ रहे है।

इस विडियो में उन्होंने कहा कि- ‘रुके ना तू, धनुष उठा प्रहार कर, तू सबसे पहला वार कर, अग्नि सी धधक-धधक, हिरण सी सजग-सजग, सिंग सी धहाड़ कर, शंख सी पुकार कर, रुके ना तू थके ना तू, झुके ना तू थमे ना तू, सदा चले थके ना तू, रुके ना तू झुके ना तू। ये शब्द मेरे पिता हरिवंश राय बच्चन ने लिखे थे और लोगों का मनोबल बढ़ाया था। ये कविता उन्होंने उस समय लिखी थी जब देश कई सारी चुनौतियों का सामना कर रहा था। इसके अलावा उन्होंने कहा कि- ‘आज भी ये कविता सटीक बैठती है। ये देश के सभी कोरोना वॉरियर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स के स्पिरिट को बढ़ाने के लिए है। वे हमारी सुरक्षा के लिए अपना सबकुछ सेक्रिफाइज कर रहे हैं। अभी जरूरत है कि हम उनके मनोबल को बढ़ाए रखें। ये हमारी लड़ाई है। हम सभी को मिल कर कंट्रिब्यूट करना होगा जितना भी हम कर सकते हैं, हम सभी को भारत की सलामती के लिए एक होना होगा, नमस्कार’।

विडियो को शेयर करते हुए अमिताभ बच्चन ने कैप्शन में लिखा कि – हम लड़ेंगे, हम एक होकर लड़ेंगें और हम जीतेंगे। यह विडियो बिग-बी ने अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर किया है जिसे लोग काफी पंसंद कर रहे है।

अभिनेता के वर्क फ्रंट की बात करें, तो वह केबीसी 13 लेकर आ रहे हैं और इस समय वह शो का प्रमोशन भी कर रहे हैं। इसके अलावा उनकी कई फिल्में महामारी के कारण रिलीज के लिए रुकी हुई हैं जिसमें ‘झुंड’, ‘द इंटर्न’, ‘ब्रह्मास्त्र’, ‘मेडे, ‘चेहरे’, और गुडबाय’ शामिल है।