राजस्थान में बर्बाद किये जा रहे टीके, कचरे में मिले 2500 से ज्यादा डोज, कांग्रेस सरकार पर उठे सवाल

राजस्थान में हजारों लोगों की जिंदगी से हुआ क्रूरतम खिलवाड़

एक तरफ कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी पार्टियां कोरोना वैक्सीन को लेकर सवाल उठा रही हैं, दूसरी ओर कांग्रेस शसित राजस्थान में अंधांधुंध टीके बर्बाद किये जा रहे हैं, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है क़ी 2500 से ज्यादा डोज कचरे में फेंके मिली। इसका खुलासा किया है समाचार पत्र दैनिक भास्कर ने. भास्कर ने 8 जिलों के 35 वैक्सीनेशन सेंटरों की डस्टबिन खंगाली जिसमें 500 वायल मिली, करीब 2500 से भी ज्यादा डोज हैं। एक वायल में 10 डोज होती हैं।

गौरतलब है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत रोजाना कहते हैं कि ‘राजस्थान जितनी वैक्सीन मांग रहा है, उसकी चौथाई भी नहीं दे रहा है केंद्र। किल्लत तो होगी ही, सेंटर बंंद करने पड़ रहे हैं। लेकिन राजस्थान में टीके की इस तरह बर्बादी की खबर सामनें आने के बाद अब कांग्रेस सरकार पर सवाल उठने लगे हैं, लोगों का का कहना है कि क्या? जानबूझकर वैक्सीन बर्बाद की जा रही है, ताकि वैक्सीन की कमीं दिखाकर केंद्र सरकार को बदनाम किया जा सके.

दैनिक भास्कर टीम की पड़ताल में 500 से ज्यादा वायल 20 से 75% तक भरे मिले। केंद्र सरकार के आंकड़ों के अनुसार राजस्थान में 16 जनवरी से 17 मई तक 11.50 लाख से ज्यादा कोविड डोज बर्बाद कर दी गई हैं। वैक्सीन की बर्बादी पर भी राज्य और केंद्र सरकार के अपने-अपने आंकड़े हैं। भास्कर टीम जिन कोविड वैक्सीनेशन केंद्रों तक पहुंची, वहां वैक्सीन की बर्बादी का प्रतिशत 25% तक मिला है। सभी वायल भास्कर के पास हैं। स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव अखिल अरोड़ा का कहना है कि हम जांच कराएंगे। भास्कर उन्हें ये सारी वायल सौंपेगा।