त्रिपुरा: जिस शादी में DM शैलेश यादव ने उत्पात मचाया था उसमें निर्धारित संख्या 50 से भी कम सिर्फ 33 मेहमान ही थे

हाल ही में वेस्ट त्रिपुरा के एक मैरिज हॉल में चल रहे शादी समारोह में डीएम शैलेश कुमार यादव ने छापा मारा था और वहां मौजूद, दूल्हा, दुल्हन पंडित सभी लोगों से बेहूदगी की थी, अब इस मामलें में एक बड़ा खुलासा हुआ है, दरअसल कोरोना काल में शादी पार्टियों में सिर्फ 50 लोगों को ही सम्मिलित होनें की इजाजत है, दैनिक जागरण में छपी खबर के मुताबिक़, जिस शादी समारोह में छापा मारकर डीएम ने उत्पात मचाया था उसमें निर्धारित संख्या 50 से भी कम सिर्फ 33 मेहमान ही थे। यानि गाइडलाइंस का पालन किये थे, किसी कारण से बरात लेट होनें से कार्यक्रम 10 बजे के बाद भी चलता रहा, यह दलील देने के बाद भी डीएम का गुस्सा ठंडा नहीं और 19 महिलाओं समेत 31 लोगों को हिरासत में ले लिया गया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, शादी की परमिशन खुद डीएम ऑफिस ने दी थी, इसके बावजूद डीएम ने छापा मारकर बदसलूकी की।

घटना से जुड़ा वीडियो वायरल होनें के बाद डीएम यादव की जमकर आलोचना हो रही है, वीडियो में डीएम शैलेश यादव कहते हैं कि ‘शादी में उपस्थित सभी लोगों ने नियमों उल्लंघन किया है. सभी पर कार्यवाही की जाएगी, यहाँ तो ठीक था, हद तो तब हो गई जब डीएम ने पंडित को थप्पड़ जड़ दिया, दूल्हा की गर्दन को पकड़कर धक्का दे दिया, अन्य रिश्तेदारों से भी अभद्रता से बात की, डीएम शैलेश यादव ने भाषाई स्तर पर भी सारी सीमाओं को लांघ दिया।

इस घटना के बाद पश्चिम त्रिपुरा की सांसद और भाजपा नेता प्रतिमा भौमिक ने कहा कि वह दुल्हन के रिश्तेदारों से मिलने जाएंगी और उनसे इस घटना के बारे में बात करेंगी। कल रात जो हुआ वह सबसे ज्यादा अवांछित है। ऐसा नहीं होना चाहिए था. सुदीप रॉय बर्मन, आशीष कुमार साहा और सुशांत चौधरी सहित कई भाजपा विधायकों ने मुख्य सचिव मनोज कुमार को पत्र लिखकर डीएम को हटाने की मांग की है.