मुकेश अम्बानी के घर के बाहर जो बम रखा गया था उसे शिवसेना नेता ने खरीदा था, सचिन वजे का खुलासा

पिछले महीनें मुंबई में उद्योगपति मुकेश अम्बानी के घर के बाहर विस्फोटक से भरी एक स्कॉर्पियो बरामद हुई थी, इस मामलें की जांच गृहमंत्रालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( NIA ) को सौंप दी थी, उसके बाद NIA ने तुरंत मुंबई पुलिस के अधिकारी सचिन वाजे को गिरफ्तार कर लिया, पूछताछ में सचिन वाजे अबतक कई विस्फोटक खुलासे कर चुके हैं, वाजे पहले ही कबूल चुके हैं कि मुकेश अम्बानी के घर के ब्याह विस्फोटक से भरी स्कॉर्पियो उन्होंने ही पार्क किया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुकेश अम्बानी के घर के बाहर जो स्कॉर्पियो खड़ी थी, उसमें जिलेटिन की छड़ें बरामद हुई थी, अब NIA के सामने सचिन वाजे ने कबूल किया है कि जिलेटिन की छड़ें प्रदीप शर्मा लेकर आये थे. आपको बता दें कि प्रदीप शर्मा पूर्व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट हैं, उनके नाम 113 एनकाउंटर दर्ज हैं, 2019 में हुए महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के दौरान उन्होंने शिवसेना ज्वाइन कर ली, चुनाव भी लड़े, लेकिन जीत हासिल नहीं हुई. प्रदीप शर्मा फर्जी एनकाउंटर केस में जेल भी जा चुके हैं, सचिन वाजे, प्रदीप शर्मा के साथ मुंबई पुलिस की एनकाउंटर टीम के प्रमुख हिस्सा रहे हैं. खबर मिल रही है कि अब NIA सचिन वाजे और प्रदीप शर्मा को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ करेगी।

इसके अलावा सचिन वाजे ने एक चिट्ठी के माध्यम से महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख पर आरोप लगाया है कि जब वो पुलिस सेवा से निलंबित थे तब अनिल देशमुख ने उसे फोन किया था और फिर से सेवा में बहाल करने के लिए उससे 2 करोड़ रुपए की मांग की थी. सचिन वाजे ने अपने पत्र में लिखा है कि पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख ने उससे 1650 बार से पैसे वसूलने के लिए कहा था. इसके अलावा शिवसेना के मंत्री अनिल परब पर आरोप लगाते हुए वाजे ने अपने पत्र में लिखा है कि बीएमसी के कॉन्ट्रैक्टर से पैसे वसूलने के लिए अनिल परब ने उससे कहा था. ,लेकिन उन्होंने मना कर दिया।