सोशल मीडिया पर अखिलेश यादव की जमकर हो रही थू-थू, ट्रेंड हुआ #Shame_On_You_AkhileshYadav

सोशल मीडिया पर समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव की जमकर भद्दगी हो रही है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि ट्विटर पर इस समय #Shame_On_You_AkhileshYadav टॉप ट्रेंड कर रहा है, अब हम आपको बताते हैं कि अखिलेश यादव के खिलाफ ट्विटर पर ये ट्रेंड क्यों चल रहा है, दरअसल अखिलेश यादव ने ट्वीट कर 14 अप्रैल को संविधान निर्माता डॉ भीमराव रामजी अम्बेडकर की जयंती को ‘दलित दिवाली’ के रूप में मनाने का ऐलान किया इसके बाद से ही लोग अखिलेश यादव के खिलाफ सोशल मीडिया पर लिखने लगे, लोगों का मानना है कि डॉ भीमराव रामजी अम्बेडकर सिर्फ दलितों के नहीं पूरे देश के हैं, लेकिन अखिलेश यादव ने सिर्फ उन्हें दलितों तक समेटकर उनका अपमान किया है.

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा है कि ‘भाजपा के राजनीतिक अमावस्या के काल में वो संविधान ख़तरे में है, जिससे मा. बाबासाहेब ने स्वतंत्र भारत को नयी रोशनी दी थी। इसलिए मा. बाबासाहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर जी की जयंती, 14 अप्रैल को समाजवादी पार्टी उप्र, देश व विदेश में ‘दलित दीवाली’ मनाने का आह्वान करती है।

अखिलेश यादव के इस ट्वीट के बाद दलित नेता देवाशीष जररिया ने ट्वीट कर कहा, मुझे नही पता अखिलेश यादव जी के सलाहकार कौन है, बाबा साहेब की जयंती को ‘दलित दीवाली’ घोषित कर उन्होंने सेल्फ गोल किया है। मैं होता तो ‘भीम दीवाली’ जैसे किसी शब्द का सुझाव देता जातिगत शब्द से बचता क्योंकि बाबा साहेब केवल दलितों के लिए ही महान नही है। साथ मे सपा को अपने पिछली सरकार के दलित विरोधी फैसलों पर आत्ममंथन कर सफाई और माफी मांगनी चाहिए। जैसे प्रोमोशन में आरक्षण के बिल को फाड़ना, अनुसूचित जाति के लिए बनाए छात्रावासों का फण्ड काटना। जीरो फीस पर अनुसूचित जाति के बच्चो के एडमिशन को बंद करना आदि।