मुख्तार अंसारी का खेल खत्म करने पर मुस्लिम महिला ने दी योगी को बधाई, प्रियंका-अमरिंदर को भी लताड़ा

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की कोशिशों की वजह से दुर्दांत अपराधी मुख़्तार अंसारी पंजाब की रोपड़ जेल से उत्तर प्रदेश की बांदा जेल लाया जा रहा है, यूपी पुलिस की टीम सोमवार सुबह पंजाब रवाना हो गई, मुख़्तार को लाने की जिम्मेदारी तेजतर्रार आईपीएस अफसर और एडीजी प्रयागराज जोन प्रेमप्रकाश को सौंपी गई है..उन्हीं के नेतृत्व में गठित टीम पंजाब के रवाना हो चुकी है, पुलिस की टीम एम्बुलेंस और बज्र वाहन सहित करीब 20 गाड़ियों के काफिले के साथ रवाना हुई है। बांदा जेल पहुंचने पर RTPCR टेस्ट होगा और फिर उच्च सुरक्षा सेल में क्वॉरंटीन रखा जाएगा। लोगों का मानना है कि पंजाब से लाकर यूपी पुलिस मुख़्तार अंसारी का वैसा ही ट्रीटमेंट करेगी, जैसा आम कैदियों का होता है, यानि दुर्दांत अपराधी को कोई वीवीआईपी व्यवस्था नहीं दी जाएगी।

मुख़्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश की जेल में लानें के लिए मुस्लिम महिला निघत अब्बास ने सीएम योगी आदित्यनाथ को बधाई दी है, गौरतलब है कि मुख्तार अंसारी को यूपी लानें के लिए योगी सरकार ने हर मुमकिन कोशिश की, वहीँ पंजाब की कांग्रेस सरकार ने दुर्दांत अपराधी को बचानें की भी भरपूर कोशिश की लेकिन सफल नहीं हो पाई.

निघत अब्बास ने कहा, मुख़्तार अंसारी का उत्तर प्रदेश आना, ये सिर्फ भाजपा सरकार, योगी आदित्यनाथ जी की जीत नहीं है, ये जीत अगर है तो हिंदुस्तान के हर उस व्यक्ति की जिसको पता है कि मुख़्तार अंसारी ने किस प्रकार के अपराध हिंदुस्तान के लिए किये हुए हैं, हिंदुस्तान को किस प्रकार बदनाम किया है, किस प्रकार आतंकवादियों के साथ समर्थन लिया हुआ है और ISIS से कनेक्शन लिया हुआ है.. निघत ने कहा, ये हार है प्रियंका गांधी वाड्रा की और पंजाब की सरकार की जिसनें निरंतर इन लोगों को बचानें की कोशिश की.

प्यारा हिंदुस्तान से बात करते हुए निघत अब्बास ने कहा, मैं बहुत ख़ुशी के साथ यह बात कहना चाहती हूँ कि आज फाइनली उत्तर प्रदेश की सरकार मुख़्तार अंसारी को वापस उत्तर प्रदेश लाएगी और और जेल की सलाखों के पीछे उसके साथ वह व्यवहार होगा जो जेल की सलाखों के पीछे होना चाहिए। वो नहीं जो पंजाब में उसे फाइव स्टार सर्विसेज मिल रहे हैं.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने मुख्तार अंसारी को दो हफ्ते के अंदर उत्तर प्रदेश की जेल में शिफ्ट किए जाने का आदेश दिया. मुख्तार के केस और उसकी कस्टडी ट्रांसफर की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया, साथ ही कोर्ट पंजाब सरकार की दलीलों से संतुष्ट नहीं था।

loading...