समय-समय की बात है: सचिन वाजे को उसी तलोजा जेल में बंद किया गया, जहाँ उसने अर्णब को भिजवाया था

समय का चक्र कब बदल जाये कुछ नहीं कहा जा सकता है, जिस सचिन वाजे ने रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी को नवी मुंबई की तलोजा जेल भिजवाया था, अब वो खुद उसी जेल में गया है, देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अम्बानी के घर के बाहर विस्फोटक से भरी स्कॉर्पियो रखने का दोषी, और 2 करोड़ रुपये सफेदपोश को देने के बाद नौकरी पर बहाल हुआ मुम्बई पुलिस का सस्पेंडेड असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वाज़े अदालत के आदेश पर 14 दिन के लिए मुम्बई तलोजा जेल भेजा गया। सनद रहे यह वही तलोजा जेल है जिसमे सचिन वाज़े ने देश के नम्बर-1 मीडिया नेटवर्क रिपब्लिक के मुख्य संपादक अर्नब गोस्वामी को डाला था.

आपको बता दें कि रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को मुंबई पुलिस ने बुधवार ( 4 नवम्बर, 2020 ) को सुबह लगभग साढ़े 6 बजे उनके घर से गिरफ्तार कर लिया था, आत्महत्या के लिए उकसाने के दो साल पुराने बंद केस में अर्नब की गिरफ़्तारी हुई थी। अर्णब को गिरफ्तार करने वाली मुंबई पुलिस की टीम का हिस्सा सचिन वजे भी थे.

मुंबई पुलिस के पूर्व एपीआई सचिन वाजे को राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( NIA ) की विशेष अदालत ने शुक्रवार ( 9 अप्रैल, 2021 ) को एंटीलिया बम काण्ड मामलें में 14 दिनों के लिए यानि 23 अप्रैल तक के लिए तलोजा जेल भेज दिया है, दूसरी ओर, सीबीआई पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख और सचिन वज़े के खिलाफ मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह द्वारा लगाए गए वसूली के आरोपों की जांच कर रही है।

गौरतलब है कि 25 फरवरी 2021 को लगभग शाम 6 बजे मुंबई में उद्योगपति मुकेश अम्बानी के घर एंटीलिया के बाहर एक स्कॉर्पियो खड़ी थी, जिसमें से कुछ जिलेटिन की छड़ें और एक धमकी भरी चिट्ठी बरामद हुई थी, पहले मुंबई पुलिस इसकी जांच कर रही थी, इसके बाद गृहमंत्रालय ने NIA को केस सौंप दिया, NIA ने सबसे पहले सचिन वाजे को गिरफ्तार किया। पूछताछ के दौरान सचिन वाजे कई राज खोल चुके हैं।