SP ने बताया कूचबिहार गोलीकांड का सच, 300 लोगों ने CISF पर हमला किया, राइफल ​छीनने, बूथ में घुसने की..

पश्चिम बंगाल में चौथे चरण का मतदान जारी है, चौथे चरण में कूचबिहार, हुगली, हावड़ा, अलीपुरद्वार और दक्षिण 24 परगना समेत 5 जिलों के 44 विधानसभा क्षेत्रों में सुबह सात बजे से वोटिंग जारी है, मतदान शुरू होने के साथ विभिन्न जगहों से हिंसा की भी ख़बरें आने लगीं, इसी बीच कूचबिहार में बवाल हो गया और फायरिंग में चार लोगों की जान चली गई, इस घटना के बाद ममता बनर्जी ने अर्धसैनिक बलों पर आरोप लगाना शुरू कर दिया था, लेकिन अब कूचबिहार के पुलिस अधीक्षक ( एसपी ) ने गोलीकांड की सच्चाई बताई है, एसपी के मुताबिक़, तकरीबन 300-350 लोगों ने CISF पर न सिर्फ हमला किया बल्कि हथियार छीनने और बूथ में घुसने की भी कोशिश की.

कूचबिहार के एसपी देबाशीष धर ने बताया कि ‘एक आदमी की, तबियत खराब हुई और वो बेहोश हो गया, बूथ के सामने उसका इलाज चल रहा था। उस समय अफवाह फैल गई कि CISF ने उसे मारापीटा है। गांव के 300-350 लोगों ने CISF कर्मी पर हमला किया, राइफल ​छीनने और बूथ में घुसने की कोशिश के दौरान CISF ने फायरिंग की, एसपी ने कहा, इस घटना में 4 स्थानीय ग्रामीणों की मौत हुई है। इनकी उम्र 22-25 साल है।

कूचबिहार में हुए गोलीकांड के ममता बनर्जी ने सीआरपीएफ पर झूठा आरोप लगते हुए कहा, सीआरपीएफ ने आज सीतलकुची (कूच बिहार) में 4 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी है। सुबह एक और मौत हुई थी। CRPF मेरी दुश्मन नहीं है, लेकिन गृह मंत्री के निर्देश पर एक साजिश चल रही है और आज की घटना एक सबूत है, टीएमसी ने कहा है कि ममता बनर्जी कल कूचबिहार में उस जगह का दौरा करेंगी, जहां आज फायरिंग में चार लोगों की मौत हो गई।

कूचबिहार में हुई घटना को लेकर CRPF ने साफ किया है कि कूचबिहार के सीतलकुची में बूथ संख्या-126 के बाहर ना तो CRPF की तैनाती थी और ना ही वो इस घटना में किसी तरह से शामिल है। यानि ममता बनर्जी सीआरपीएफ को बदनाम करने के लिए झूठा आरोप लगा रही है.