लॉकडाउन के डर से मुंबई में फिर शुरू हुआ मजदूरों का पलायन, रेलवे स्टेशनों पर भारी भीड़

कोरोना वायरस ने एक बार फिर तेज रफ़्तार पकड़ ली है, जगह-जगह नाईट कर्फ्यू लगाए जा रहे हैं, लॉकडाउन लगने के डर से एक बार फिर मुंबई में मजदूरों का पलायन शुरू हो चुका है, रेलवे स्टेशनों पर भारी भीड़ देखी जा रही है, मुंबई में लोकमान्य तिलक टर्मिनस पर ट्रेन में इतनी भीड़ जुट रही है कि पैर रखने की भी जगह नहीं है, लोग ट्रेन भूसे में भरकर अपने-अपने गृहराज्य लौट रहे हैं, मुंबई से यूपी आ रही एक ट्रेन प्रवासी मजदूरों से खचाखच भरी देखी गई।

मुंबई छोड़कर अपने गृहराज्य लौट रहे मजदूरों का कहना है कि हम जल्द से जल्द यहाँ से निकलना चाहते हैं, अगर कहीं लॉकडाउन लग गया तो पिछले साल की तरह इस साल भी फंस जाएंगे, क्योंकि लॉकडाउन लगते ही टबस-ट्रेन सेवायें बाधित हो जाएंगी।

लोकमान्य तिलक टर्मिनस (LTT), कुर्ला से उत्तर प्रदेश और बिहार के लिए ट्रेनें जाती हैं, रेलवे अधिकारियों ने बताया कि पिछले दो दिनों में यात्रियों की संख्या में वृद्धि हुई थी। मुंबई छोड़कर अपने गाँव लौट रहे एक वाहन चालक ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, पिछले साल लॉकडाउन के दौरान मैं अपने घर जौनपुर पैदल गया था, लेकिन इस बार मैं ऐसी स्थिति में नहीं फंसना चाहता, इसलिए पहले ही निकल जा रहा हूँ, उन्होंने कहा, अब कोई काम नहीं है क्योंकि सरकार कड़े प्रतिबन्ध लगा चुकी है तो हम यहाँ रहकर ही क्या करेंगे।

उत्तर प्रदेश के गोंडा के रहने वाले एक प्रवासी मजदूर सोहनलाल ने बताया कि उनके पास न तो कोई पैसा है और न ही कोई काम। इसलिए वो अब अपने गाँव लौट रहे हैं, सोहन लाल और उनके दो दोस्त अपने गृहनगर तक पहुंचने के लिए कुशीनगर एक्सप्रेस (एलटीटी गोरखपुर) लेने के लिए स्टेशन पहुंचे। उन्होंने कहा, हम फरवरी में यह सोंचकर आये कि थे कुछ काम मिलेगा, लेकिन पिछले दो महीनों में कोरोना के मामलें बढ़ गए और हमें कोई काम नहीं मिला। इससे अच्छा हम गाँव में खेती करके कमा सकते हैं।