केजरीवाल जो पैसा विज्ञापन में लगा रहे हैं, उसी पैसे से लोगों की सेवा करने की जरूरत है: गौतम गंभीर

पूर्व भारतीय क्रिकेटर और दिल्ली के भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने कहा है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल जो पैसा विज्ञापनों में फूंक रहे हैं, उसी पैसे से लोगों की सेवा करने की जरूरत है, लेकिन वो ऐसा कर नहीं रहे हैं, गौतम गंभीर ने कहा, अभी भी मुख्यमंत्री (अरविंद केजरीवाल) के विज्ञापन चल रहे हैं। इस समय उसी पैसे से लोगों की सेवा करने की जरूरत है। मुख्यमंत्री को तो शर्म आएगी नहीं। उन्हें तो विज्ञापन पर विज्ञापन दिए जाना है। हर 2 मिनट पर विज्ञापन दिए जा रहे हैं.

गौरतलब हैए कि कोरोना को लेकर चारों ओर त्राहिमाम मचा है, दिल्ली में तो हालात बहुत भयावह हैं, स्वास्थ्य व्यवस्था दम तोड़ चुकी है, अस्पतालों में बेड नहीं है, ऑक्सीजन की भारी किल्लत देखि जा रही है, परन्तु कोई भी मीडिया चैनल इसको लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल से सवाल नहीं कर रहा है, इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि केजरीवाल सरकार ने लगभग सभी मीडिया चैनल को करोड़ों का विज्ञापन दे रखा है।

जानकारी के अनुसार, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने पिछले दो सालों में विज्ञापनों पर लगभग 822 करोड़ रूपये खर्च किये, लेकिन एक भी ऑक्सीजन प्लांट दिल्ली में लगवाने की जहमत नहीं उठा सके. पिछले वर्ष दिल्ली सरकार ने अपने गुणगान और प्रचार पर 355 करोड़ रु पए का विज्ञापन खर्च किया। इस वर्ष यह राशि बढ़ाकर 467 करोड़ रु पए कर दी गई है।

अगर दिल्ली सरकार की पब्लिसिटी पर इस खर्च राशि को जोड़ा जाए तो यह 822 करोड़ रुपए की बड़ी राशि होती है। अगर इस राशि का उपयोग दिल्ली में ऑक्सीजन सप्लाई को बढ़ाने के लिए किया जाता तो इससे दिल्ली में 750 एमटी अतिरिक्त ऑक्सीजन का उत्पादन हो सकता था। लेकिन ऐसा नहीं हुआ, जिसकी वजह से दिल्ली में लोग ऑक्सीजन की कमी की वजह से अस्पतालों में दम तोड़ रहे हैं.