भीम आर्मी के बिहार चीफ गोविन्द पासवान बोले, राजपूत युवक की हत्या में भीम आर्मी का हाथ नहीं

bhim-army-bihar-chief-govind-paswan-denied-bhim-army-leader-killed-rajput-youth

सीवान: भीम आर्मी बिहार प्रदेश के चीफ गोविन्द ने कहा कि प्रदेश की भीम आर्मी कमेटी यह स्पष्ट करना चाहती है कि बिहार के सीवान जिला के रेपुरा गाँव में राजपूत समाज के युवा की हत्या में भीम आर्मी के किसी भी पदाधिकारी की कोई संलिप्तता नहीं है. ये सिर्फ संगठन को बदनाम करने की साजिश है. इस घटना में संलिप्त लोगों ने किसी आपसी रंजिश के तहत हत्या की है.

भीम आर्मी बिहार प्रदेश कमिटी इस घटना में CBI जांच की मांग करती है. भीम आर्मी एक संवैधानिक संगठन है और संविधान के विरुद्ध काम करने वाले किसी भी व्यक्ति और संगठन/पार्टी का विरोध करती है.
बाबा साहब ने भारत में सभी नागरिकों को समान अधिकार दिये है इसलिए भीम आर्मी सभी जातियों और धर्मों का सम्मान करती है. जो संविधान के खिलाफ है, भीम आर्मी उसके खिलाफ है.

क्या है मामला, जानिये

आपको बता दें की एक वेबसाइट पर खबर छपी है कि एक नौजवान राजपूत की हत्या सिर्फ इसलिए कर दी गयी क्योंकि वह जय भीम बोलने में दिलचस्पी नहीं दिखाता था, यह मामला बिहार के सिवान जिले का है. फलाना दिखाना की रिपोर्ट के मुताबिक, जय भीम न बोलने पर राजपूत युवक को मौत के घाट उतारने वाले तीनों आरोपी भीम आर्मी से जुड़े हुए हैं.

वेबसाइट पर छपी खबर के मुताबिक़ 21 अप्रैल 2021 की शाम लगभग 7 बजे मृतक सिवान जिले के जीरादेई थाना क्षेत्र के रेपुरा गांव में मृतक सिद्धार्थ सिंह को चार दलित युवक घर से बुला कर कही ले गए थे। जिसके बाद रात करीब 8 30 बजे मृतक ने मोबाइल से पड़ोसी को फ़ोन कर बताया था कि उसे दिनेश राम, सुमंत राम, सुमित राम व अमित राम ने अन्य साथियो के साथ मिलकर घेर लिया है। जानकारी मिलने के तुरंत बाद परिजनों में हड़कंप मच गया।

ट्विटर पर भी एक पोस्ट वायरल हो रही है जिसकी सच्चाई का पुष्टि नहीं हुई है।

वेबसाइट की खबर के मुताबिक़ रात भर सिद्धार्थ को खोजने पर भी जब वह नहीं मिला तो परिजनों ने पुलिस को उसकी सुचना दी। वहीं अगले दिन सिद्धार्थ का शव कुंए से बरामद किया गया जिसके बाद पिता ने तीन युवको के खिलाफ नामजद तहरीर दी है।

मृतक के पिता सूर्य भान सिंह ने फलाना दिखाना को बताया कि हत्यारे भीम आर्मी से जुड़े हुए है। वह आये दिन उनके बेटे को जय भीम बोलने को लेकर गाली गलोच करते थे। पुलिस के अनुसार अभी तक एक आरोपी दिनेश राम को गिरफ्तार किया जा चूका है। बाकि अन्य आरोपियों की तलाश जारी है. पुलिस द्वारा कराये गए पोस्टमार्टम में गला दबाकर मारने का जिक्र किया गया है।

भाईचारा बिगाड़ने की कोशिश: गोविन्द पासवान की अपील

भीम आर्मी के बिहार चीफ गोविन्द पासवान ने हमसे बातचीत में कहा कि इस मामले में भीम आर्मी के नेताओं का कोई हाथ नहीं है। पुलिस FIR में भीम आर्मी का कोई जिक्र नहीं है। हम संविधान को मानते हैं, हमारे संगठन की बढ़ती लोकप्रियता और ताकत से कुछ लोग जलन रखते हैं इसलिए भीम आर्मी को बदनाम करने की साजिश की जा रही है जो कामयाब नहीं होगी और बिहार में भाईचारा बना रहेगा। उन्होंने जनता से अपील की कि एक दूसरे से मिलकर रहें और भाईचारा बनाकर रखें। उन्होंने राजपूत युवक की हत्या में शामिल आरोपियों के लिए कड़ी सजा की मांग भी की।