6 साल बाद अखिलेश यादव ने संतों से मांगी माफ़ी, बनारस में साधुओं पर करवाया था बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव कल ( 11 अप्रैल, 2021 ) को हरिद्वार कुम्भ पहुंचे, इस दौरान अखिलेश यादव ने शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती समेत कई संतों से मुलाक़ात की और 6 वर्ष बाद संतों से हाथ जोड़कर माफ़ी मांगी। अखिलेश यादव ने 2015 में बनारस में संतों पर हुए लाठीचार्ज के लिए संतों से माफ़ी मांगते हुए कहा कि ‘जो गलती हुई उसे स्वीकारते हुए मैनें शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद और उनके शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद से माफ़ी मांगी है.

रविवार को अखिलेश यादव हरिद्वारा पहुंचे और कनखल स्थित शंकराचार्य मठ में शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद स्वरस्वती और स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद से मुलाकात कर आशीर्वाद लिया।

आपको बता दें कि आज से 6 वर्ष पहले 2015 में ( तब यूपी में सपा सरकार थी ) प्रशासन ने संतों को गंगा में गणेश प्रतिमा का विसर्जन नहीं करने दिया था।इससे नाराज संत गंगा तट पर ही धरने पर बैठ गए। संतों को हटाने के लिए पुलिस ने उन पर बर्बरतापूर्वक लाठी चार्ज किया। जिसमें स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद समेत कई संतों को गंभीर चोटें आई थी, उस समय स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने अखिलेश यादव से लिखित माफ़ी मांगने की बात कही थे, उस समय तो उन्होंने माफ़ी नहीं मांगी लेकिन अब 6 वर्ष बाद माफ़ी मांग ली है, क्योंकि अगले वर्ष ही उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव हैं।