परमबीर के पत्र पर मचा बवाल, बग्गा बोले- गली गली में शोर है, उद्धव ठाकरे चोर है

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के एक पत्र से महाराष्ट्र की सियासत में भूचाल आ गया है, चहुंओर उद्धव ठाकरे सरकार की थू-थू हो रही है, दरअसल परमबीर ने सीएम उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी लिखी है जिसमें उन्होंने दावा किया है कि गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाजे को कहा था हर महीने 100 करोड़ की वसूली चाहिए।

इस चिट्ठी के सामनें आने के बाद महाराष्ट्र सरकार पूरी तरफ बैकफुट पर आ गई है, भाजपा नेता तजिंदर बग्गा ने तो उद्धव ठाकरे को चोर करार दिया है, बग्गा ने अपने ट्वीट में लिखा, गली गली में शोर है, उद्धव ठाकरे चोर है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे अपने पत्र में, मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने दावा किया कि अनिल देशमुख ने निलंबित एपीआई सचिन वेज से बार रेस्तरां, अन्य प्रतिष्ठानों से हर महीने 100 करोड़ रुपये वसूली करने का निर्देश दिया था। परमबीर के इस पत्र के बाद भाजपा ने गृहमंत्री अनिल देशमुख को हटाने की मांग की है।

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगानें की मांग की है, इसके लिए वो केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को पत्र भी लिखेंगे। आरपीआई नेता और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा, हमारी मांग है कि सचिन वाझे और शिवसेना का संबंध बहुत नजदीक दिख रहा है। देवेंद्र फडणवीस ने भी इस विषय पर अपनी बात रखी है। ये प्रकरण गंभीर है। मैं गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखने जा रहा हूं महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू होना ही चाहिए।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि गृहमन्त्री अनिल देशमुख पर जो आरोप लगे हैं वो बहुत गंभीर हैं, उन्हें तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए, फडणवीस ने कहा, मुंबई की पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने पत्र के माध्यम से जो आरोप लगाए हैं वो गंभीर हैं… महाराष्ट्र के गृह मंत्री को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए या मुख्यमंत्री को उन्हें हटाना चाहिए।